बारिश और भू-स्खलन ने थामी रफ्तार, केदार यात्रा पर लगी रोक

Last Updated: Tuesday, June 30, 2015 - 11:26
बारिश और भू-स्खलन ने थामी रफ्तार, केदार यात्रा पर लगी रोक

पिथौरागढ़ः प्रदेश के कई इलाकों में हुई तेज बारिश और भू-स्खलन से हालात बिगड़ने लगे हैं। पिथौरागढ़ के दारमा घाटी से 117 लोगों को बचाया गया। साथ ही केदारनाथ यात्रा पर भी रोक लगा दी गई है। इस बचाव अभियान में दारमा घाटी से 117 लोगों को हेलीकॉप्टर की मदद से धारचूला पहुंचाया गया। वहीं केदारनाथ यात्रा पर रोक लगाई गई है। लगातार बारिश से कई जगहों पर पुलिया और अस्थाई पुलों के बहने से आवागमन बाधित हो गया। 

उधर केदारनाथ की यात्रा पर आए श्रद्धालु प्रशासन के रुख से खासे नाराज नजर आए और आरोप लगाया कि उन्हें सूचना नहीं दी गई। तीर्थयात्रियों ने सोनप्रयाग, सीतापुर और रामपुर में प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन भी किया। प्रशासन का कहना है कि क्षतिग्रस्त मार्गों को दुरुस्त करने के लिए 30 जून तक के लिए रोक लगाई गई है, लोक निर्माण विभाग क्षतिग्रस्त मार्गों को दुरुस्त करने का कार्य कर रहा है और यात्रा को एक जुलाई से फिर से खोल दिया जाएगा। प्रशासन का कहना है कि जो यात्री रास्तों में रूके हुए हैं उनके खाने पीने की समुचित व्यवस्था की गई है।

वहीं खराब मौसम और तमाम खतरे की आशंकाओं के बावजूद यात्रियों का कहना है कि वो चार दिनों से मार्ग खुलने का इंतजार कर रहे हैं और भगवान के दर्शन किये बिना वापस नहीं जाएंगे। दरअसल पहाड़ों पर बारिश के चलते नदियां उफान पर आ जाती हैं, जिससे भू-स्खलन की घटनाएं बढ़ जाती हैं, ऐसे में जान जोखिम का खतरा भी बना रहता है।
रिपोर्टः ज़ी मीडिया ब्यूरो के साथ कोमल मेहता, पिथौरागढ़ और हरेंद्र नेगी, रुद्रप्रयाग

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.