मौसम विभाग की चेतावनी, 16 जुलाई को हो सकती है भारी बारिश

Last Updated: Monday, July 13, 2015 - 17:19
मौसम विभाग की चेतावनी, 16 जुलाई को हो सकती है भारी बारिश
Representational image

देहरादूनः मौसम विभाग ने 16 जुलाई को भारी बारिश की चेतावनी दी है। पर्यटकों के लिये जन्नत समझी जाने वाली देवभूमि उत्तराखंड में पिछले कुछ सालों में तेज बारिश, बाढ़, लैंड स्लाइडिंग और बादल फटने की घटनाओं से हालत खराब हैं। कभी हरियाली का खूबसूरत अहसास दिलाने वाली बारिश धीरे-धीरे आफत बनती जा रही है।

प्रदेश में पहले से ही लगातार बारिश ने रहवासियों और पर्यटकों के लिये मुसीबतों का पहाड़ खड़ा कर दिया है। प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में लोगों को कई मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। कहीं यात्रा मार्गों पर लोगों का जाम है, तो कहीं बाढ़ के पानी और लैंड स्लाइडिंग से जीना मुहाल है। हालांकि मौसम विभाग के निदेशक आनंद शर्मा का कहना है कि केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री इलाके में 13, 14 और 15 जुलाई को बारिश में कुछ कमी आएगी। लेकिन 15 और 16 जुलाई को मौसम विभाग ने सतर्कता बरतने को कहा है।

कुमाऊं में लगातार हो रही बारिश से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। अल्मोड़ा के भिकियासैण में रामगंगा नदी में पानी अधिक होने से नहाते वक्त एक शख्स की मौत हो गई, जबकि टनकपुर में पहाड़ी से गिर रहे पत्थर की चपेट में आने से एक शख्स गंभीर रुप से घायल हो गया। वहीं चंपावत में छह आंतरिक मोटर मार्ग बाधित हो गए हैं। इसी तरह मुनस्यारी में लिंगुरानी पुल बहने से कई लोग फंसे हुए थे, जिन्हें आईटीबीपी के जवानों की मदद से निकाल लिया गया है, जबकि मिलम घाटी में हेलीकॉप्टर उड़ान नहीं भर सका।

भारी बारिश से अल्मोड़ा के रानीखेत द्वाराहाट क्षेत्र में भी जन-जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है। वहीं नैनीताल के गेठिया में एक मकान ढह गया है, जबकि बेतालघाट में भी एक गौशाला ज़मींदोज हो गई। नैनीताल जिले में करीब 12 आंतरिक मार्ग बाधित पड़े हैं।

प्रशासन का कहना है कि वो हालात पर नजर बनाए हुए हैं और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन की टीमें तैयार हैं। दरअसल, बीते चार-पांच सालों में बरसात में पहाड़ों पर आपदा का कहर टूटा, जिससे जान-माल का भारी नुकसान भी हुआ। ऐसे में एक बार फिर मौसम विभाग की चेतावनी के बाद लोगों में डर का माहौल है।
-सोनू सिंह के साथ ज़ी मीडिया ब्यूरो

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.