उत्तराखंड में 'ज़ी संगम देवभूमि सम्मान', CM हरीश रावत ने ज़ी मीडिया को दी बधाई

By Pritesh Gupta | Last Updated: Tuesday, March 31, 2015 - 20:51
उत्तराखंड में 'ज़ी संगम देवभूमि सम्मान', CM हरीश रावत ने ज़ी मीडिया को दी बधाई

देहरादूनः लगातार खबरों को सटीक, सही और सबसे तेजी से आप तक पहुंचाने के अलावा ज़ी संगम सामाजिक सरोकारों से जुड़े कार्यक्रमों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेता है। खबरों के साथ हर नजरिये की बात करते हुए ज़ी संगम ने सामाजिक जिम्मेदारी की अपनी इसी मुहिम को आगे बढ़ाते हुए इस बार उत्तराखंड में रहने वाली समाज की उन गौरवशाली शख्सियतों को ज़ी संगम देवभूमि सम्मान से सम्मानित किया है, जिन्होंने अलग-अलग क्षेत्रों में अपने अनुपम प्रयासों से उत्तराखंड और देश को गौरवान्वित करने का काम किया है और देश के विकास में अहम भूमिका निभाई है।

इस समारोह में सामाजिक क्षेत्र से जुड़ी 14 हस्तियों को उनके योगदान और ऊंचे मुकाम के लिए देवभूमि सम्मान से नवाज़ा गया। कार्यक्रम में एस्सेल ग्रुप के चेयरमैन डॉ. सुभाष चन्द्रा के साथ ही उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत, पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी और रमेश पोखरियाल निशंक ने उत्तराखंड की शख्सियतों को सम्मानित किया।

कार्यक्रम के दौरान विधानसभा अध्यक्ष गोविंद कुंजवाल, पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान मंत्रिमंडल के सदस्य भी उपस्थित रहे। समाज के विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिष्ठित लोग भी उपस्थित रहे। प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में अपने योगदान से प्रदेश और देश को गौरवान्वित करने वाली शख्सियतों को सम्मानित किया गया।

1. स्वास्थ्य - डॉ. राजीव शर्मा
2. शिक्षा और साहित्य - डॉ. विष्णुदत्त राकेश
3. समाज सेवा - महंत देवेंद्र दास और स्वामी चिदानंद मुनि 
4. खेल - एकता बिष्ट
5. कृषि - गणेश गरीब 
6. उत्तराखंड गौरव - कर्नल कोटियाल 
7. कला (डांस, गीत, संगीत) - बसंती बिष्ट
8. विज्ञान और तकनीक - प्रोफेसर एएन पुरोहित
9. उभरती प्रतिभा - नुंग्शी, ताशी और अभिलाष सेमवाल
10. नारी सशक्तिकरण - अनुपमा जोशी
11. लाइफ टाइम अचीवमेंट - सुंदर लाल बहुगुणा

कर्नल अजय कोटियाल ने सेना में रहते हुए वीरता और साहस की अद्भुत मिसाल पेश की है। कर्नल अजय कोटियाल को देवभूमि सम्मान दिया गया। हालांकि, किन्हीं कारणों से कर्नल कोटियाल ये सम्मान लेने नहीं पहुंच सके। उनका सम्मान सूबेदार तेजपाल सिंह ने ग्रहण किया।

अनुपमा जोशी ने महिलाओं के हक और सम्मान के लिए एक लंबी लड़ाई लड़ी और उसमें जीत हासिल की। अनुपमा जोशी को देवभूमि सम्मान से नवाज़ा गया। चकबंदी आंदोलन के प्रणेता गणेश गरीब को अपने अथक प्रयासों के लिए देवभूमि सम्मान से सम्मानित किया गया। 

ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन आश्रम के अध्यक्ष और आध्यात्मिक गुरु स्वामी चिदानंद सरस्वती को भी देवभूमि सम्मान दिया गया। क्रिकेट की दुनिया में नाम कमाने वाली अल्मोड़ा की एकता बिष्ट को भी देवभूमि सम्मान दिया गया। उत्तराखंड के दुर्गम पहाड़ी क्षेत्र में डॉ. राजीव शर्मा ने अब तक 60 हजार से ज्यादा ऑपरेशन किए। उन्हें देवभूमि सम्मान दिया गया। 
 
उभरते वैज्ञानिक अभिलाष सेमवाल को देवभूमि सम्मान दिया गया। विद्यावाचस्पति और साहित्य शिरोमणि जैसी उपाधियों से नवाजे गए डॉ. विष्णु दत्त राकेश को भी देवभूमि सम्मान से नवाजा गया। 
 
देहरादून की रहने वाली नुंग्शी और ताशी मलिक ने पर्वतारोहण की दुनिया में बुलंदियों को छुआ है, उनकी अनुपस्थिति में उनके माता-पिता ने यह सम्मान स्वीकार किया। दुनियावी मायामोह से विमुख हो कर समाज सेवा को ही जीवन बनाने वाले महंत देवेन्द्र दास को भी देवभूमि सम्मान से नवाजा गया, हालांकि वे भी इस दौरान उपस्थित नहीं हो सके। उनके परिजनों ने यह सम्मान प्राप्त किया।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने संबोधित करते हुए करते हुए ज़ी मीडिया को कार्यक्रम के लिए बधाई दी। साथ ही ज़ी संगम से ऐसी पहल आगे भी जारी रखने की अपेक्षा की। एस्सेल ग्रुप के चेयरमैन सुभाष चंद्रा ने उत्तराखंड की जनता को भरोसा दिलाते हुए कहा कि आगे भी हम समाज के प्रतिभावान लोगों को सम्मानित करते रहेंगे और उत्तराखंड के उन लोगों को पहचान दिलाएंगे, जिनके अच्छे काम समाज में किन्हीं कारणों से ज्यादा पहचान नहीं बना सके।

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो

114076112497191514508


comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.