close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देश के सबसे पुराने शोध रिएक्टर ‘अप्सरा’ का होगा पुनरोत्थान

वर्ष 2010 में स्थायी रूप से बंद किए गए भारत के सबसे पुराने शोध रिएक्टर ‘अप्सरा’ का पुनरोत्थान किया जा रहा है और इसके 2018 तक फिर से काम शुरू करने की उम्मीद है। बार्क के रिएक्टर ग्रुप के सहायक निदेशक सुजय भट्टाचार्य ने बताया, ‘अप्सरा बार्क का सबसे पुराना शोध रियेक्टर है और हम इसे फिर से शुरू करना चाहते हैं। हम पूरे रिएक्टर के पुनरोत्थान पर काम कर रहे हैं और हमें उम्मीद है कि साल 2018 तक ये फिर से शुरू हो जाएगा।’ 

देश के सबसे पुराने शोध रिएक्टर ‘अप्सरा’ का होगा पुनरोत्थान
साल 2010 से बंद भारत का सबसे पुराने शोध रिएक्टर ‘अप्सरा’ (फोटो- बार्क)

मुंबई : वर्ष 2010 में स्थायी रूप से बंद किए गए भारत के सबसे पुराने शोध रिएक्टर ‘अप्सरा’ का पुनरोत्थान किया जा रहा है और इसके 2018 तक फिर से काम शुरू करने की उम्मीद है। बार्क के रिएक्टर ग्रुप के सहायक निदेशक सुजय भट्टाचार्य ने बताया, ‘अप्सरा बार्क का सबसे पुराना शोध रियेक्टर है और हम इसे फिर से शुरू करना चाहते हैं। हम पूरे रिएक्टर के पुनरोत्थान पर काम कर रहे हैं और हमें उम्मीद है कि साल 2018 तक ये फिर से शुरू हो जाएगा।’ 

पहली बार 1956 में शुरू हुआ था अप्सरा रिएक्टर

भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर (बार्क) ने इस रिएक्टर को डिजाइन किया था और इसे ट्रॉंबे में ब्रिटेन के सहयोग से बनाया गया था जो पहली बार 4 अगस्त 1956 में चालू हुआ था। करीब 54 वर्षों की सेवा के बाद इसे 2010 में बंद कर दिया गया था।

इस रिएक्टर का इस्तेमाल विकिरण क्षति के अध्ययन, फोरेंसिक शोध, न्यूट्रॉन रेडियोग्राफी और परिरक्षण प्रयोगों के लिए होता था। इसका इस्तेमाल रेडियो समस्थानिकों के शोध और उत्पादन में भी होता था। उन्होंने कहा, ‘इस रिएक्टर की अधिकतम क्षमता एक मेगावाट थी जिसका उन्नयन कर इसे 2 मेगावाट किया जा रहा है।’