close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विक्रम लैंडर को नहीं ढूढ पाया नासा, इन दो कारणों से पता नहीं चला

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा एक बार फिर चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) को चंद्रमा की सतह पर ढूढ़ पाने में विफल रहा है.

विक्रम लैंडर को नहीं ढूढ पाया नासा, इन दो कारणों से पता नहीं चला

नई दिल्ली : अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) एक बार फिर चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) को चंद्रमा की सतह पर ढूढ़ पाने में विफल रहा है. महीने की शुरुआत में विक्रम के उतरने के स्थान का नासा के अंतरिक्ष यान द्वारा उतारे गए चित्रों में लैंडर नहीं दिखाई दिया है.

दो कारण से पता नहीं लगा पाया
नासा के एक वैज्ञानिक ने कहा कि अंतरिक्षयान विक्रम पता नहीं लगा पाया है, जिसके दो कारण हैं. पहला यह कि विक्रम उस स्थान से बाहर है, जिसके चित्र अमेरिकी एजेंसी ने लिए हैं. दूसरा यह कि लैंडर चंद्रमा के उस हिस्से में हैं, जहां छाया है.

भारत के भारी रॉकेट, जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल-मार्क 3 ने 22 जुलाई को 978 करोड़ रुपये लागत का एक टेक्स्ट बुक स्टाइल का चंद्रयान-2 अंतरिक्ष में लॉन्च किया था. चंद्रयान-2 अंतरिक्षयान में तीन हिस्से थे -ऑर्बिटर (2,379 किलोग्राम, आठ पेलोड), विक्रम (1,471 किलोग्रमा, चार पेलोड), और प्रज्ञान (27 किलोग्राम, दो पेलोड).