ग्रीनलैंड के बड़े हिमनदों में बर्फ का पिघलना हुआ तेज

उत्तरपूर्व ग्रीनलैंड की एक विशाल हिमचादर बहुत तेजी से पिघलने लगी है जिससे आगामी दशकों में अस्थिरीकरण और दुनियाभर में समुद्र का स्तर बढ़ेगा।

ग्रीनलैंड के बड़े हिमनदों में बर्फ का पिघलना हुआ तेज

वाशिंगटन : उत्तरपूर्व ग्रीनलैंड की एक विशाल हिमचादर बहुत तेजी से पिघलने लगी है जिससे आगामी दशकों में अस्थिरीकरण और दुनियाभर में समुद्र का स्तर बढ़ेगा।

वैज्ञानिकों ने पाया कि वर्ष 2012 की गर्महवा और समुद्र के तापमान से जाचारिया इस्ट्रोम हिम चादर नीचे समुद्रतल की ओर तेजी से खिसक रही है। इस ग्लेशियर में इतना अधिक पानी है कि दुनियाभर में समुद्र के स्तर में आधे मीटर की वृद्धि हो सकती है।

उन्होंने कहा कि इस बर्फ का वेग तीन गुणा हो गयह जिससे उसका पिघलना काफी तेज हो गया है

कंसास विश्वविद्यालय के सेंटर फॉर रिमोट सेंसिग ऑफ आईस शीट्स के जॉन पाडेन ने कहा कि हिमनद विज्ञान की भाषा में बर्फ का पिघलना तेजी से हो रहा है। कुछ ही पीढ़ियों में बर्फ के पिघलने से समुद्र स्तर में बहुत बड़ा बदलाव आ सकता है।

पाडेन ने कहा, ‘‘जब आप उन सभी हिमनदों को जोड़ेंगे जो खिसकर रहे हैं तो इससे बड़ी तादाद में लोगों पर फर्क पड़ेगा। पिछली सदी में समुद्र स्तर बढ़ गया है लेकिन आने वाले समय की तुलना में अभी महज कुछ लोग प्रभावित हुए हैं।’’ यह अध्ययन साइंस पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।