इंसानों ने सबसे पहले कैसे बनाए थे कपड़े? इस गुफा से खुलेगा राज
X

इंसानों ने सबसे पहले कैसे बनाए थे कपड़े? इस गुफा से खुलेगा राज

रिसर्चर्स ने मोरक्को की एक गुफा में मिली हड्डियों से पाया है कि प्राचीन काल के लोग जानवरों की खाल को पहना करते थे. रिसर्चर्स ने पाया है कि यह हड्डियां 120,000 साल पुरानी हैं.

 

इंसानों ने सबसे पहले कैसे बनाए थे कपड़े? इस गुफा से खुलेगा राज

नई दिल्ली: क्या आपने कभी सोचा है कि बिना सुई, धागे के पहली शर्ट कैसे बनाई गई होगी? दरअसल गुफाओं में रहने वाले हमारे पूर्वज अपने शरीर को ढकने के लिए फर का इस्तेमाल करते थे. रिसर्चर्स ने मोरक्को (Morocco) में एक गुफा में कपड़ों का उपयोग करने वाले मनुष्यों के कुछ शुरुआती सबूत पाए हैं, जिसमें हड्डियों के औजारों और चमड़ी वाले जानवरों की हड्डियों की खोज से पता चलता है कि यह चलन कम से कम 120,000 साल पुरानी है.

'अफ्रीका के लोग थे संसाधनपूर्ण'

जर्मनी में मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट फॉर द साइंस ऑफ ह्यूमन हिस्ट्री (Max Planck Institute for the Science of Human History) के डॉ. एमिली हैलेट ने कहा कि हमने इस दृष्टिकोण को मजबूत किया है कि अफ्रीका में शुरुआती इंसान इनोवेटिव और संसाधनपूर्ण थे.

हड्डियों की खोज से खुला राज

खोज में पाए गए उपकरण 90,000 से 120,000 साल पुराने हैं. Max Planck Institute for the Science of Human History के Pan African Evolution रिसर्च ग्रुप में पोस्ट डॉक्टरल वैज्ञानिक एमिली युको हैलेट ने कहा कि मैं इसे खोज की उम्मीद नहीं कर रही थी. उन्होंने कहा, 'मैं प्राचीन मानव आहार के बारे में जानकारी जुटाने के लिए जानवरों की हड्डियों की खोज के लिए इस जगह का अध्ययन कर रही थी.'

यह भी पढ़ें: कीचड़ में मिला दो लाख साल पुराना ऐसा 'खजाना', देखकर वैज्ञानिक भी रह गए हैरान

अलग थे हड्डियों के आकार  

यह रिसर्च गुरुवार को आईसाइंस पत्रिका (i Science Magazines) में प्रकाशित हुई. इसमें कहा गया है, 'वहां 12,000 जानवरों की हड्डियां थीं. जब रिसर्चर्स उनकी जांच कर रहे थे तो उन्होंने इन पर गौर करना शुरू किया क्योंकि इनका आकार बहुत अलग था. इन हड्डियों की बनावट प्राकृतिक नहीं थी. ये चमकदार थीं और इन पर धारियां या खरोंच बनी हुई थी. खाने के लिए किसी जानवर का सेवन करने के बाद छोड़ी गई हड्डियों के विपरीत, ये हड्डियां काफी अलग थीं.'

पहले कभी नहीं देखा ऐसा पैटर्न

रिसर्चर्स को गुफा में मिली हड्डियों पर कटे हुए निशान का एक पैटर्न भी मिला. इससे संकेत मिलता है कि वहां रहने वाले मनुष्य अपने फर के लिए लोमड़ियों, सियार और जंगली बिल्लियों जैसे मांसाहारियों की खाल निकालते थे. जानवरों की हड्डियों में अलग-अलग निशान दिखाई देते हैं जिससे पता चलता है कि उन्होंने मांस के लिए संसाधित किया गया था. रिसर्चर ने कहा कि मैंने पहले कभी इस तरह के पैटर्न को नहीं देखा. उम्मीद है कि प्राचीन स्थलों पर काम करने वाले पुरातत्वविद (Archaeologist) भी इस पैटर्न की तलाश शुरू करेंगे.

LIVE TV

Trending news