किसानों के लिए खुशखबरी, वैज्ञानिकों ने खोजा फसल उगाने का नया तरीका

इस अध्ययन का उत्तर-पूर्व भारत के किसानों पर व्यापक असर हो सकता है.

किसानों के लिए खुशखबरी, वैज्ञानिकों ने खोजा फसल उगाने का नया तरीका
मिट्टी में आर्सेनिक होने की समस्या वैश्चिक है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

लंदन: ब्रिटेन में एक भारतीय वैज्ञानिक आर्सेनिक युक्त मिट्टी में फसलें पैदा करने की दिशा में काम कर रहे हैं. उनके इस अध्ययन का उत्तर-पूर्व भारत के किसानों पर व्यापक असर हो सकता है. वार्विक विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ लाइफ साइंसेज में डा. अलेक्स जोन्स प्रयोगशाला के डॉ. मोहन टीसी ने ट्रांसजेनिक जौ पर प्रायोगिक परीक्षण किया. ब्रिटेन की संस्था एमएलएसआरएफ से वित्तपोषण के बाद अब उनकी योजना धान के पौधों को उगाने की है. विश्वविद्यालय ने बुधवार पांच दिसंबर को विश्व मृदा दिवस के मौके पर इसकी घोषणा की. उन्होंने कहा कि आर्सेनिक से कैंसर होने के कारण जरूरी है कि खाद्य पदार्थ में इसे प्रवेश नहीं करने दें. इसके मद्देनजर सुरक्षित फसलें विकसित करना आवश्यक है.

विश्वविद्यालय ने कहा कि मिट्टी में आर्सेनिक होने की समस्या वैश्चिक है. पूर्वोत्तर भारत और बांग्लादेश में यह खास तौर पर मिलता है.