क्‍या आपने मंगल ग्रह पर चलने वाली हवा की आवाज को सुना है? नहीं, तो यहां सुनिए

नासा के इनसाइट लैंडर के जरिये पहली बार लाल ग्रह पर चलने वाली हवा की आवाज और कंपन को रिकॉर्ड किया गया है.

क्‍या आपने मंगल ग्रह पर चलने वाली हवा की आवाज को सुना है? नहीं, तो यहां सुनिए
26 नवंबर को मंगल ग्रह पर उतरे अंतरिक्ष शोध यान से मिली कामयाबी. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : मंगल ग्रह पर जीवन की संभावनाओं की तलाश और उसकी संरचना को समझने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक जुटे हुए हैं. इसी क्रम में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा को बड़ी सफलता हाथ लगी है. 26 नवंबर को मंगल ग्रह पर उतरे नासा के अंतरिक्ष शोध यान 'इनसाइट लैंडर' ने यहां की हवा की आवाज को रिकॉर्ड करने में सफलता पाई है. ऐसा पहली बार हुआ है कि लाल ग्रह पर चलने वाली हवा की आवाज को रिकॉर्ड किया गया हो. इसके साथ ही नासा के इस अंतरिक्ष शोध यान ने मंगल के जमीन पर हुए कंपन को भी रिकॉर्ड किया है.

इस साल 5 मई को लांच किया गया नासा का इनसाइट लैंडर शोध यान 26 नवंबर को ही मंगल की सतह पर उतरा है. इसमें मंगल पर शोध के लिए कई अत्‍याधुनिक उपकरण लगाए गए हैं.


नासा के अंतरिक्ष शोध यान के जरिये मिली बड़ी कामयाबी. फोटो NASA

इनमें से एक है सिस्‍मोमीटर (seismometer). नासा के अनुसार इस उपकरण के जरिये मंगल ग्रह पर आने वाले भूकंपों का मापन किया जाना आसान होगा. इस शोध यान ने सिस्‍मोमीटर के जरिये 1 दिसंबर को मंगल ग्रह की सतह पर कंपन महसूस किया. इसके साथ ही वहां चलने वाली हवा की आवाज का भी रिकॉर्ड किया है.


नासा के अंतरिक्ष शोध यान के जरिये मिली बड़ी कामयाबी. फोटो NASA

नासा की जेट प्रोपल्‍शन लैबोरेटरी (जेपीएल) ने इस संबंध में एक ऑडियो क्लिप जारी की है. इसमें मंगल ग्रह पर बहने वाली आवाज को साफतौर पर सुना जा सकता है. उसके अनुसार इस हवा की रफ्तार 16 किमी प्रति घंटा से 24 किमी प्रति घंटा के बीच आंकी गई है. यह हवाएं उत्‍तर-पश्चिम से दक्षिण-पश्चिम की ओर चल रही थीं. नासा के अनुसार यह आवाज इंसानों के द्वारा भी सुनी जा सकती है. हालांकि इसकी आवाज बेहद कम थी. इसे सिर्फ ईयरफोन के जरिये ही सुना जा सकता था. इसके लिए अंतरिक्ष एजेंसी के वैज्ञानिकों ने इसे लैपटॉप और मोबाइल फोन के जरिये सुनने लायक बनाया.