close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

700 समुद्री प्रजातियों को प्लास्टिक के कचरे से खतरा: अध्ययन

एक नए वैश्विक अध्ययन में पाया गया है कि प्लास्टिक और कांच जैसे मानव-निर्मित कचरे के कारण समुद्री जीवों की लगभग 700 प्रजातियों पर खतरा मंडरा रहा है। ब्रिटेन की प्लाईमाउथ यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने दुनिया भर से जुटाई गई रिपोर्ट में इस बात के साक्ष्य पाए हैं कि 44 हजार जानवर और जीव कचरे में उलझ रहे हैं या उसे निगल रहे हैं।

700 समुद्री प्रजातियों को प्लास्टिक के कचरे से खतरा: अध्ययन

लंदन : एक नए वैश्विक अध्ययन में पाया गया है कि प्लास्टिक और कांच जैसे मानव-निर्मित कचरे के कारण समुद्री जीवों की लगभग 700 प्रजातियों पर खतरा मंडरा रहा है। ब्रिटेन की प्लाईमाउथ यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने दुनिया भर से जुटाई गई रिपोर्ट में इस बात के साक्ष्य पाए हैं कि 44 हजार जानवर और जीव कचरे में उलझ रहे हैं या उसे निगल रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (आईयूसीएन) की लाल सूची में 92 प्रतिशत मामलों के लिए प्लास्टिक को वजह बताया गया है और सभी प्रजातियों में से लगभग 17 प्रतिशत को खतरे में या खतरे के कगार पर बताया गया है। इनमें हवाईयन मॉन्क सील (सील मछली), लॉगरहेड टर्टल (कछुआ) और सूटी शियर वॉटर (एक पक्षी) भी शामिल हैं।

मरीन पॉल्यूशन बुलेटिन में छपे शोधपत्र में इसके लेखकों सारा गाल और प्रोफेसर रिचर्ड थॉम्प्सन ने उन विविध स्रोतों से जुटाए गए उलझाव, निगले जाने, पारिस्थितिक तंत्रों को नुकसान जैसे साक्ष्य पेश किए हैं।

सारा ने कहा, ‘समुद्री जीवन पर कचरे का प्रभाव चिंता का विषय है और इसके प्रभाव व्यापक हो सकते हैं। इसके परिणाम कचरा निगले जाने और कचरे में जीवों के उलझ जाने के रूप में सामने आ सकता है, जो कि नुकसानदायक है।’