बौने पुरुषों और मोटी महिलाओं की आय होती है कम: रिसर्च

छोटे कद के पुरुषों और अधिक वजन वाली महिलाओं के लिए जिंदगी में कम मौके होते हैं। दूसरों की तुलना में उनकी आय कम भी हो सकती है। शोधार्थियों ने यह जानकारी दी है। एक्सेटर विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने आनुवंशिकी का इस्तेमाल कर यह दर्शाया है कि पुरुषों में छोटे कद और महिलाओं में ज्यादा बॉडी मास इंडेक्स (कद के अनुसार वजन का ज्यादा होना) होने से उनकी आय सहित जीवन में उनके लिए मौके कम होते हैं।

बौने पुरुषों और मोटी महिलाओं की आय होती है कम: रिसर्च

लंदन: छोटे कद के पुरुषों और अधिक वजन वाली महिलाओं के लिए जिंदगी में कम मौके होते हैं। दूसरों की तुलना में उनकी आय कम भी हो सकती है। शोधार्थियों ने यह जानकारी दी है। एक्सेटर विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने आनुवंशिकी का इस्तेमाल कर यह दर्शाया है कि पुरुषों में छोटे कद और महिलाओं में ज्यादा बॉडी मास इंडेक्स (कद के अनुसार वजन का ज्यादा होना) होने से उनकी आय सहित जीवन में उनके लिए मौके कम होते हैं।

शोधार्थियों ने ब्रिटेन बायोबैंक के (40 से 70 साल की उम्र के बीच के) 1,20,000 प्रतिभागियों के डेटा में से 470 पर अध्ययन किया जिनकी आनुवंशिकीय सूचना उपलब्ध थी। इनमें से 400 आनुवंशिकी परिवतेर्ं कद और 70 बीएमआई से संबंधित थे। उन्होंने इन परिवर्तों का इस्तेमाल वास्तविक कद और वजन से यह जानने के लिए किया कि क्या छोटा कद या ज्यादा वजन जीवन में मौकों को कम करता है। इस बाबत प्रतिभागियों ने अपने जीवन के बारे में जानकारी मुहैया कराई थी जिसे मापा गया।

अध्ययन में सामने आया कि अगर किसी व्यक्ति का कद औसत से 7.5 सेंटीमीटर कम है और इसका कारण आनुवंशिकी के अलावा और कोई नहीं है तो लंबे व्यक्ति की तुलना में उसकी आय प्रतिवर्ष 1,500 पौंड कम हो सकती है। इसी तरह किसी महिला का वजन औसत से 6.3 किलोग्राम ज्यादा है और इसका आनुवंशिकी के अलावा और कोई कारण नहीं है तो उसकी आय समान कद वाली लेकिन कम वजन वाली महिला वाली तुलना में 1,500 पौंड प्रतिवर्ष कम हो सकती है। एक्सेटर विश्वविद्यालय के टिम फ्रेलिंग ने कहा कि यह सर्वश्रेष्ठ साक्ष्य है जो संकेत देता है कि आपका कद या वजन सीधे तौर पर आपकी आय और अन्य आर्थिक सामाजिक कारकों पर जीवन भर असर डालता है।

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.