ज़ी स्पेशल

G-20 सम्मेलन में जवाबदेही तय की जा सकती थी, लेकिन ये मौका हमने हाथ से जाने दिया

G-20 सम्मेलन में जवाबदेही तय की जा सकती थी, लेकिन ये मौका हमने हाथ से जाने दिया

चीन जो वैश्विक संकट का​ निर्यातक रहा है, उसे एक मंच दिया गया जिससे वो ये बता सके कि पूरी दुनिया को इस वक्त क्या करना चाहिए. 

WION | Mar 28, 2020, 01:23 PM IST
#NirbhayaNyayDiwas: निर्भया के आखिरी शब्द...उन दरिंदों को मत छोड़ना, मां ने गांठ बांध ली

#NirbhayaNyayDiwas: निर्भया के आखिरी शब्द...उन दरिंदों को मत छोड़ना, मां ने गांठ बांध ली

हमें अंदाजा हो रहा था कि यह खबर देश को बदल देगी और आपने सड़कों पर देखा होगा कि इस खबर ने किस तरह देश को बदलकर रख दिया. 

पूजा मक्कड़ | Mar 20, 2020, 12:41 PM IST

अन्य ज़ी स्पेशल

आखिर किसने छीन लिया है घरेलू क्रिकेट का सुख-चैन

आखिर किसने छीन लिया है घरेलू क्रिकेट का सुख-चैन

जिस देश का घरेलू क्रिकेट लोकप्रियता के मामले में बेहाल हो रहा हो, उस देश का क्रिकेट आगे जाकर नीचे जरूर गिरेगा.

सुशील दोषी | Feb 13, 2019, 02:48 PM IST
डियर जिंदगी: ‘ कड़वे ’ की याद!

डियर जिंदगी: ‘ कड़वे ’ की याद!

हम अपनी बहुत ‘छोटी’ दुनिया के अनुभव को जब बहुत बड़ी धरती पर लागू करने की कोशिश करते हैं, तो इससे हमारा दृष्टिकोण बहुत बाधित होता जाता है.

दयाशंकर मिश्र | Feb 13, 2019, 09:47 AM IST
डियर जिंदगी: अरे! कितने बदल गए...

डियर जिंदगी: अरे! कितने बदल गए...

बच्‍चे बहुत तेज़ी से सीखते, समझते और नई चीज़ के लिए तैयार होते हैं. विडंबना यह है कि बड़े होते ही हम अपना ही सबसे अनमोल गुण बिसरा देते हैं.

दयाशंकर मिश्र | Feb 12, 2019, 08:05 AM IST
डियर जिंदगी: सबकुछ ठीक होना!

डियर जिंदगी: सबकुछ ठीक होना!

संदेह, प्रेम की कमी से हम रिक्‍त, रूखे और कठोर होते जाते हैं. धीरे-धीरे यह हमारा स्‍थाई बनता जाता है. चित्‍त में जो भाव ठहर जाए, वह आसानी से नहीं बदलता.

दयाशंकर मिश्र | Feb 11, 2019, 08:54 AM IST
जेल में जफर: जिसे न जमीन मिली, न कलम

जेल में जफर: जिसे न जमीन मिली, न कलम

रंगून में अंग्रेजों की कैद में रहते हुए उन्होंने ढेरों गजलें लिखीं. बतौर कैदी अंग्रेजों ने उन्हें कागज-कलम तक मुहैया नहीं की थी. तब यह क्रांतिकारी शासक कोयले और जली हुई तीलियों से जेल की दीवारों पर गजलें लिखने लगा. दीवार पर लिखी गई उनकी यह मशहूर गजल आज भी खूब याद की जाती है और जिंदगी की हकीकत के करीब है.

वर्तिका नंदा | Feb 10, 2019, 04:12 PM IST
डियर जिंदगी: दुख को संभालना!

डियर जिंदगी: दुख को संभालना!

हमने बेटियों की शिक्षा की ओर तो कदम बढ़ा दिया, लेकिन लड़के हमारे वैसे ही रह गए. उनका रवैया, नजरिया, सोच अभी भी सामंती है. पुरातन है. उसमें नई हवा के झोंके बहुत कम हैं!

दयाशंकर मिश्र | Feb 8, 2019, 08:45 AM IST
बाल गृहों का लैंगिक यातना गृहों में तब्दील हो जाना

बाल गृहों का लैंगिक यातना गृहों में तब्दील हो जाना

कुछ महीनों पहले मुज्ज़फरनगर से लेकर देवरिया होते हुए जम्मू के कठुआ तक ऐसे दर्जनों मामले सामने आ चुके हैं, जिन्होंने साबित किया है कि किशोर न्याय अधिनियम के तहत संचालित होने वाले बाल संरक्षण गृहों में भी बच्चे सुरक्षित नहीं हैं.

सचिन कुमार जैन | Feb 7, 2019, 01:56 PM IST
डियर जिंदगी: अपने लिए जीना!

डियर जिंदगी: अपने लिए जीना!

जिंदगी चलती हुई 'पटरियों' पर चलने का नाम नहीं है. समय के साथ नई पटरियां बिछाने, उन पर चलने का हौसला भी करना जरूरी है! 

दयाशंकर मिश्र | Feb 7, 2019, 10:00 AM IST
डियर जिंदगी: प्रेम का रोग होना!

डियर जिंदगी: प्रेम का रोग होना!

मैंने बहुत सोचा कि 'डियर जिंदगी' में इस कहानी को लिखा जाए, छोड़ दिया जाए. फिर तय किया कि कहना चाहिए, क्‍योंकि इस पर तंज अधिक कसे जाते हैं, बात सबसे कम होती हैं!

दयाशंकर मिश्र | Feb 6, 2019, 08:51 AM IST
जेल में तिलक, पत्रकारिता और उनका लेखन

जेल में तिलक, पत्रकारिता और उनका लेखन

तिलक ने मराठी में मराठा दर्पण और केसरी नाम से दो दैनिक अखबार शुरू किए, जो बेहद लोकप्रिय हुए. इनमें वे अंग्रेजी शासन की क्रूरता और भारतीय संस्कृति को लेकर अपने विचार बहुत खुलकर व्यक्त करते थे.

वर्तिका नंदा | Feb 5, 2019, 11:11 PM IST
MamataVsCBI: दीदीगिरी और पुलि‍स की वर्दी पर दाग

MamataVsCBI: दीदीगिरी और पुलि‍स की वर्दी पर दाग

केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल के पुलिस अधिकारियों की अनुशासनहीनता पर राज्यपाल के मार्फत गोपनीय रिपोर्ट मंगवाई है. सवाल यह है कि पश्‍च‍िम बंगाल की शेरनी ममता बनर्जी की दादागिरी, पुलिस अधिकारियों के सहयोग के बगैर कैसे चल सकती है?

विराग गुप्ता | Feb 5, 2019, 05:07 PM IST
डियर जिंदगी: परिवर्तन से प्रेम!

डियर जिंदगी: परिवर्तन से प्रेम!

बाहरी नहीं, भीतरी चुनौती हमें अक्‍सर डराती है. यह अपनों से ही मिलती है. ऐसे में सबसे जरूरी इरादों पर डटे रहना, हार नहीं मानना है. सपनों, परिवर्तन के प्रति आस्‍था ही असली पूंजी है!

दयाशंकर मिश्र | Feb 5, 2019, 08:24 AM IST
किस्सा-ए-कंज्यूमर : ऑनलाइन कंपनी से आपको मिला है रिफंड?

किस्सा-ए-कंज्यूमर : ऑनलाइन कंपनी से आपको मिला है रिफंड?

क्या होता है जब आप घर आया डिलिवरी पैकेट खोलें और निकले टूटा फूटा या डिफेक्टिव माल? क्या ई-कॉमर्स कंपनी वो सामान बिना टाल-मटोल के वापस ले लेती है? क्या आपको आपके पैसे आराम से वापस मिल जाते हैं? 

गिरिजेश कुमार | Feb 4, 2019, 11:59 PM IST
डियर जिंदगी : रिटायरमेंट और अकेलापन!

डियर जिंदगी : रिटायरमेंट और अकेलापन!

आगरा, उत्‍तरप्रदेश से ‘डियर जिंदगी’ के बुजुर्ग ने भावुक अनुभव साझा किया है. इस संदेश में सवाल, सरोकार, चिंता के साथ अकेलेपन की पीड़ा शामिल है. सुरेश कुलश्रेष्‍ठ का अनुरोध है कि इसे इनके नाम, परिचय के साथ प्रकाशित किया जाए. सुरेश जी चाहते हैं कि जो उनके साथ हुआ उनके किसी हमउम्र के साथ न हो!

दयाशंकर मिश्र | Feb 4, 2019, 09:42 AM IST
टीम इंडिया विश्व कप जीतने की सबसे बड़ी दावेदार, उसे हराना टेढ़ी खीर होगी

टीम इंडिया विश्व कप जीतने की सबसे बड़ी दावेदार, उसे हराना टेढ़ी खीर होगी

भारत ने 2018-19 में दक्षिण अफ्रीका, वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया और अब न्यूजीलैंड को मात दी है. 

सुशील दोषी | Feb 2, 2019, 07:39 PM IST
स्वच्छता के बिना सम्मान नहीं पाया जा सकता

स्वच्छता के बिना सम्मान नहीं पाया जा सकता

हमारी स्वच्छता हमारे स्वयं के, हमारे वंश के, हमारी जाति के, हमारे धर्म के और हमारे देश के सम्मान के लिए बेहद जरूरी है. स्वच्छता जीवन का एक अनिवार्य विषय है. इसे वैकल्पिक मानकर अपना सम्मान ना गवाएं.

बजट की व्याख्या अर्थशास्त्रियों को नहीं, नेताओं को करनी है

बजट की व्याख्या अर्थशास्त्रियों को नहीं, नेताओं को करनी है

बजट अभी पेश हुआ ही है. विद्वान लोग धीरे-धीरे इसकी खूबियां और खामियां रेशा-रेशा कर सामने लाएंगे. इन जानकारों में से ज्यादातर ऐसे होंगे जिन्होंने निष्कर्ष पहले से निकाल रखे होंगे, भले ही बजट कैसा भी हो.

पीयूष बबेले | Feb 1, 2019, 03:41 PM IST
डियर जिंदगी: फैसला कौन करेगा!

डियर जिंदगी: फैसला कौन करेगा!

इस बात को गंभीरता से समझने की जरूरत है कि जीवन किसका है. इस पर किसका अधिकार है! सपने किसके हैं, दायित्व किसका है और अंततः जिम्मेदारी किसकी!

दयाशंकर मिश्र | Feb 1, 2019, 08:11 AM IST
डियर जिंदगी: रेगिस्तान होने से बचना!

डियर जिंदगी: रेगिस्तान होने से बचना!

शहर में हमारे घर आंगन एक दूसरे से इतने अलग और बंटे हुए हैं कि कब वहां सुख और दुख 'हमारे' ना होकर 'मेरे और तुम्हारे' में बदल जाते हैं, हम नहीं समझ पाते.

 

दयाशंकर मिश्र | Jan 31, 2019, 08:30 AM IST
पद्मश्री बाबूलाल दाहिया : देसी अन्नों का देहाती विश्वामित्र

पद्मश्री बाबूलाल दाहिया : देसी अन्नों का देहाती विश्वामित्र

दाहिया जी को यह सम्मान पारंपरिक बीजों के संरक्षण और उनकी खेती के विस्तार को प्रोत्साहन देने के लिए मिला है. वे पिछले पंद्रह सालों से देसी बीजों की तलाश में पूरा देश घूम चुके हैं. बाबूलाल एक साथ दस काम ओढ़े हुए चलते हैं.

जयराम शुक्ल | Jan 30, 2019, 04:43 PM IST