13वें दक्षिण एशियाई खेल: भारत ने खो-खो में जीते 2 सुनहरे खिताब

2016 की स्वर्ण पदक विजेता भारतीय पुरुष टीम ने बांग्लादेश की टीम को हराकर लगातार दूसरी बार खिताब जीता.

13वें दक्षिण एशियाई खेल: भारत ने खो-खो में जीते 2 सुनहरे खिताब
(फोटो साभार: Twitter)

काठमांडू: भारत की महिला एवं पुरुष खो खो टीमों ने यहां जारी 13वीं दक्षिण एशियाई खेलों में बुधवार को स्वर्ण पदक जीतकर लगातार दूसरी बार चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया है. 2016 की स्वर्ण पदक विजेता भारतीय पुरुष टीम ने बांग्लादेश की टीम को हराकर लगातार दूसरी बार खिताब जीता, जबकि दिल्ली की नसरीन की नेतृत्व वाली भारतीय महिला टीम ने मेजबान नेपाल को मात देकर अपने खिताब का सफलतापूर्वक बचाव किया.

भारतीय पुरुष टीम ने एक पारी और सात अंकों से जीत दर्ज की और उसका स्कोर 16-9 रहा. भारत की ओर से दीपक माधव जीत के हीरो रहे, जिन्होंने डिफेंस में पांच लोगों को आउट किया और चेज में वह दो मिनट से अधिक समय तक दौड़ते रहे.

महाराष्ट्र के रहने वाले माधव ने कहा, "टीम के लिए यह जीत बेहद खास है. हम पूरे उत्साह के साथ इस टूर्नामेंट में पहुंचे थे और हमने अपने गेम प्लान को फॉलो किया. मैं बहुत खुश हूं कि मैंने टीम के लिए पदक जीतने में अपना व्यक्तिगत योगदान दिया."

महिलाओं के फाइनल में कप्तान नसरीन ने आगे से टीम का नेतृत्व करते हुए चेज में पांच पॉइंट बटोरे, जबकि उनकी टीम साथी महाराष्ट्र की काजल भोर ने भी अपना अहम योगदान देते हुए पांच पॉइंट हासिल किए.

भारतीय महिला टीम ने एक पारी और 12 अंकों से यह मुकाबला जीतकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया और उसका स्कोर 17-5 रहा.

पुरुष वर्ग में जहां बांग्लादेश को लगातार दूसरी बार रजत पदक से संतोष करना पड़ा तो वहीं नेपाल ने तीसरे स्थान पर रहकर कांस्य पदक हासिल किया.

महिला वर्ग में नेपाल ने रजत पदक के साथ अपने अभियान का समापन किया, जबकि बांग्लादेश को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा.