Breaking News

रियो ओलंपिक : मुक्केबाजी के सभी 36 रैफरी और जज प्रतिबंधित

ओलंपिक में हुई आलोचना से स्तब्ध अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ ने रियो ओलंपिक का हिस्सा रहे सभी 36 अधिकारियों पर जांच का नतीजा आने तक प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है जबकि 10 अंकों की विवादित स्कोरिंग प्रणाली में भी सुधार पर रजामंदी जताई है ।

लुसाने : ओलंपिक में हुई आलोचना से स्तब्ध अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ ने रियो ओलंपिक का हिस्सा रहे सभी 36 अधिकारियों पर जांच का नतीजा आने तक प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है जबकि 10 अंकों की विवादित स्कोरिंग प्रणाली में भी सुधार पर रजामंदी जताई है ।

रैफरियों, जजों, तकनीकी तथा नियम आयोग की बैठक में एआईबीए ने नये ओलंपिक सत्र में सकारात्मक फैसले लेने की योजना बनाई है। एआईबीए अध्यक्ष डॉ. चिंग कू वू ने कहा, ‘रियो 2016 में मुक्केबाजी सकारात्मक के साथ गलत कारणों से भी सुखिर्यों में रही। एक संगठन के तौर पर हमने अच्छा काम किया। मुक्केबाजी की अधिकांश स्पर्धाओं पर सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली लेकिन कुछ फैसले विवादित रहे जिससे साबित होता है कि एआईबीए की आर एंड जे प्रक्रिया में सुधार जरूरी है।’ 

रियो में रैफरिंग की काफी आलोचना हुई और कई मुक्केबाजों ने पक्षपात का शिकार होने की आलोचना की। विश्व ईकाई ने पेशेवर शैली की 10 अंकों की रैफरिंग व्यवस्था पर भरोसा जताया लेकिन इसमें बदलाव पर रजामंदी जाहिर की। एआईबीए ने कहा, ‘एआईबीए का मानना है कि मौजूदा 10 अंकों की प्रणाली खेल के लिये सर्वश्रेष्ठ है लेकिन आयोग ने भविष्य में होने वाली स्पर्धाओं में विजेता के चयन के लिये सभी पांच जजों के स्कोरकार्ड एक साथ खोलने का सुझाव दिया है।’