close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय बॉक्सर बने अमित पंघाल

अमित पंघाल चैंपियनशिप के 52 किग्रा वर्ग के फाइनल में पहुंच गए हैं. वे ऐसा करने वाले देश के पहले पुरुष बॉक्सर हैं. 

वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय बॉक्सर बने अमित पंघाल
अमित पंघाल ने क्वार्टर फाइनल में कजाक मुक्केबाज को हराया. (फोटो: IANS)

नई दिल्ली: भारतीय बॉक्सर अमित पंघाल ने एआईबीए वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप (AIBA World Boxing Championship) में शानदार प्रदर्शन करते हुए इतिहास रच दिया है. वे चैंपियनशिप के 52 किग्रा वर्ग के फाइनल में पहुंच गए हैं. अमित पंघाल (Amit Panghal) ने क्वार्टर फाइनल में कजाक मुक्केबाज को हराया. मनीष कौशिक (Manish Kaushik) को क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा. उन्हें क्यूबा के एंडी क्रूज ने हराया. इस तरह मनीष को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा.

अमित पंघाल वर्ल्ड बॉक्सिंग के फाइनल में पहुंचने वाले देश के पहले पुरुष बॉक्सर हैं. उनके फाइनल में पहुंचने के साथ ही यह तय हो गया है कि भारतीय बॉक्सर पहली बार वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत सकता है. जहां तक महिला बॉक्सिंग का सवाल है तो खेलप्रेमी जानते हैं कि एमसी मैरीकॉम छह बार विश्व चैंपियन बन चुकी हैं. 

यह भी पढ़ें: INDvsSA: अपने घरेलू मैदान पर टीम इंडिया से मिले राहुल द्रविड़, BCCI ने कहा...

अमित पंघाल ने शुक्रवार को खेले गए क्वार्टर फाइनल में कजाकिस्तान के साकेन बिबिसोनोव (Saken Bibossinov) को करीबी मुकाबले में हराया. भारतीय मुक्केबाज ने फ्लाईवेट कैटेगरी का यह मुकाबला 3-2 से जीता. अमित पंघाल ने पिछले साल एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीता था.

इस तरह अमित पंघाल के पास अब विश्व बॉक्सिंग चैंपियनशिप में पहला गोल्ड मेडल जीतने का मौका है. अगर वे ऐसा नहीं कर पाते, तब भी इतिहास लिखा जाएगा. अगर अमित हारे तो उन्हें सिल्वर मेडल मिलेगा. 
 

 

भारत के बॉक्सिंग इतिहास में आज तक कोई भी पुरुष खिलाड़ी विश्व बॉक्सिंग चैंपियनशिप में गोल्ड या सिल्वर मेडल नहीं जीत सका है. भारत के चार पुरुष बॉक्सरों ने विश्व बॉक्सिंग चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं. विजेंदर सिंह (2009) ऐसा करने वाले पहले बॉक्सर हैं. विकास कृष्णन (2011), शिवा थापा (2015) और गौरव विधूड़ी (2017) भी ब्रॉन्ज मेडल जीत चुके हैं.

(इनपुट: IANS)