अमिताभ बच्चन ने मैरी कॉम को दी बधाई, कहा- आपके दिए हुए ग्ल्व्स मेरे गोल्ड मेडल हैं

अमिताभ बच्चन ने मैरी कॉम के ग्ल्व्स की एक तस्वीर अपने ऑफिशियल टि्वटर हैंडिल पर शेयर की हैं.

अमिताभ बच्चन ने मैरी कॉम को दी बधाई, कहा- आपके दिए हुए ग्ल्व्स मेरे गोल्ड मेडल हैं
महिला मुक्केबाजी : मैरी कॉम रिकार्ड छठी बार बनीं विश्व चैम्पियन (PIC : DNA)

नई दिल्ली: छह गोल्ड जीतकर इतिहास रचने वाली मैरी कॉम की जीत से भारतीय फिल्म उद्योग भी बेहद खुश है और फिल्मी हस्तियां इस मौके पर उनकी तारीफ करने और बधाइयां देने से पीछे नहीं रहीं. अमिताभ बच्चन, प्रियंका चोपड़ा, एस.एस. राजामौली जैसी हस्तियों ने मैरी कॉम को सराहा है. मैरी कॉम ने शनिवार (24 नवंबर) को यहां इंदिरा गांधी स्टेडियम के के.डी. जाधव हॉल में 10वीं आईबा महिला विश्व चैम्पियनशिप के 48 किलोग्राम भार वर्ग के फाइनल में यूक्रेन की हना ओखोटा को 5-0 से मात देकर गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया. 

बॉक्सिंग लीजेंड एमसी मैरी कॉम ने वर्ल्ड चैंपियनशिप जीत कर कामयाबी की एक और सीढ़ी लांघ ली. पूरे देश ने मैरी कॉम के इस गोल्ड मेडल की जमकर प्रशंसा की. इस खिताब के साथ मैरी कॉम क्यूबा की फेलिक्स सेवोन के साथ संयुक्त रूप से सबसे सफल बॉक्सर बन गई हैं. सोशल मीडिया पर उनके लिए शुभकामनाओं और संदेशों की बाढ़ आ गई है. उनके फैन्स, नेता, अभिनेता सभी उन्हें बधाइयां दे रहे हैं. बधाई देने वालों में बॉलीवुड मेगास्टार अमिताभ बच्चन भी शामिल रहे.

अमिताभ बच्चन ने मैरी कॉम के ग्ल्व्स की एक तस्वीर अपने ऑफिशियल टि्वटर हैंडिल पर शेयर की हैं. अमिताभ ने लिखा- मैरी कॉम...आपने देश का कितना सम्मान बढ़ाया है...छह बार गोल्ड मेडल वर्ल्ड चैंपियनशिप विजेता...बधाई हो....मैं अब भी उन ग्ल्व्स को बहुत मान देता हूं, जो आपने मुझे गिफ्ट किए थे. मेरे लिए वह गोल्ड मेडल से कम नहीं हैं. 

बता दें कि मैरी कॉम ने वर्ल्ड चैंपियनशिप 2001 में डेब्यू करते हुए सिल्वर मेडल जीता था. इसके बाद 2002, 2005, 2006, 2008, 2010 और 2018 में उन्होंने गोल्ड मेडल जीता. मैरी कॉम ने इन बधाइयों के बाद सभी का शुक्रिया अदा किया है. उन्होंने कहा- सबसे पहले मैं अपने सभी फैन्स का शुक्रिया अदा करती हूं. मेरे पास आपको देने के लिए कुछ नहीं है, मैं सिर्फ देश को गोल्ड मेडल दे सकती हूं. मेरे लिए यही अहम है. आज मैं कुछ भावुक थी क्योंकि पिछले कुछ सालों से मैं 48 किलो वर्ग में ठीक से लड़ नहीं पा रही थी. अब मुझे अन्य श्रेणियों में जाना होगा. मेरे लिए यह बड़ी चुनौती थी. आप सबके प्यार और समर्थन की वजह से ही मैं यहां तक पहुंची हूं. मुझे उम्मीद है कि टोकियो ओलंपिक, 2020 के लिए मैं क्वालिफाई कर पाऊंगी. लेकिन रियो ओलंपिक के लिए मैं क्वालीफाई नहीं कर पाऊंगी क्योंकि मैं अभी अस्वस्थ हूं. 

भावुक मैरी कॉम ने कहा, मैं 48 किलोग्राम वर्ग में आसानी से गोल्ड जीत सकती हूं, लेकिन 51 किलोग्राम में यह मुश्किल है क्योंकि दूसरे बॉक्सरों को मेरी अस्वस्थ्ता का एडवांटेज मिलता है.