Asian Games 2018 : रोइंग में भारत ने जीता गोल्ड मेडल, 2 ब्रॉन्ज पर भी जमाया कब्जा

एशियाई खेलों में भाग ले रहे 34 भारतीय रोअर्स में से 33 सेना के हैं. 

Asian Games 2018 : रोइंग में भारत ने जीता गोल्ड मेडल, 2 ब्रॉन्ज पर भी जमाया कब्जा
स्वर्ण सिंह, भोनाकल दत्तू, ओम प्रकाश और सुखमीत सिह ने रोइंग में क्वाड्रपल स्कल्स टीम इवेंट का गोल्ड जीता. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: भारत ने 18वें एशियन गेम्स में छठे दिन शुक्रवार (24 अगस्त) को रोइंग (नौकायन) में  पहला गोल्ड मेडल जीता. स्वर्ण सिंह, भोनाकल दत्तू, ओम प्रकाश और सुखमीत सिह की टीम ने पुरुषों की क्वाड्रपल स्कल्स टीम इवेंट का स्वर्ण अपने नाम किया. भारतीय टीम ने फाइनल में 6 मिनट और 17.13 सेकंड का समय लेकर पहला स्थान हासिल किया. इस इवेंट का रजत पदक इंडोनेशिया और कांस्य पदक थाईलैंड ने जीता. इसी इवेट में भारत को शुक्रवार को दो कांस्य पदक भी मिले. 

इससे पहले दुष्यंत ने लाइटवेट सिंगल्स स्कल्स इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर दिन की शुरुआत की. इसके बाद रोहित कुमार और भगवान सिंह की जोड़ी ने लाइटवेट डबल्स स्कल्स में ब्रॉन्ज मेडल जीता. अब भारत के खाते में 21 मेडल हो गए हैं, जिनमें 5 गोल्ड, 4 सिल्वर और 12 ब्रॉन्ज शामिल है. एशियन गेम्स में भाग ले रहे 34 भारतीय रोअर्स में से 33 सेना के हैं. 

नौकायन : भारत को स्कल्स में एक और कांस्य
भारत को एशियाई खेलों में छठे दिन शुक्रवार को नौकायन स्पर्धा में एक और कांस्य पदक हासिल हुआ है. रोहित कुमार और भगवान सिंह की जोड़ी ने यहां पुरुषों की लाइटवेट युगल स्कल्स स्पर्धा के फाइनल में कांस्य पदक जीता.  इससे पहले दुष्यंत ने लाइटवेट एकल स्कल्स स्पर्धा के फाइनल में कांस्य पदक जीता था. रोहित और भगवान ने 7 मिनट और 04.61 सेकेंड का समय लेकर स्पर्धा का फाइनल चरण पूरा किया और तीसरे स्थान पर रहकर कांस्य पदक पर कब्जा जमाया. स्पर्धा का स्वर्ण पदक जापान के माशाहीरो ताकेडा और मासायुकी मियाउरा को गया. उन्होंने इस स्पर्धा को 7 मिनट और 01.70 सेकेंड में समाप्त किया. दक्षिण कोरिया की ब्यूनघून किम और मिनयुक ली की जोड़ी ने 7 मिनट और 03.22 सेकेंड का समय लेकर दूसरे स्थान पर रहते हुए रजत पदक पर कब्जा जमाया. 

दुष्यंत ने रोइंग में जीता ब्रॉन्ज
भारतीय खिलाड़ी दुष्यंत ने भारत की झोली में पहला पदक देकर अच्छी शुरुआत दी है. दुष्यंत ने नौकायन में पुरुषों की लाइटवेट एकल स्कल्स स्पर्धा के फाइनल में तीसरा स्थान हासिल कर कांस्य पदक जीता. फाइनल में दुष्यंत ने इस स्पर्धा को समाप्त करने में 7 मिनट और 18.76 सेकेंड का समय लगाते हुए कांस्य पर निशाना साधा. दुष्यंत ने 2014 में भी एशियाई खेलों में इसी स्पर्धा में भारत को कांस्य पदक दिलाया था. हालांकि, इस बार उनका समय पिछले एशियाई खेलों से बेहतर है. उन्होंने इंचियोन में 2014 में हुए एशियाई खेलों में इस स्पर्धा को 7 मिनट और 26.27 सेकेंड में पूरा किया था. इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक दक्षिण कोरिया के खिलाड़ी ह्यूनसु पार्क ने जीता. उन्होंने 7 मिनट और 12.86 सेकेंड का समय लिया. इसके अलावा, हांगकांग के चुन हिन चियु ने 7 मिनट और 14.16 सेकेंड का समय लेकर रजत पदक पर कब्जा जमाया. 

गौरतलब है कि भारतीय नौकायन दल के लिए एशियाई खेलों में पांचवां दिन निराशाजनक रहा था, जिसमें वे पुरूष सिंगल स्कल्स और डबल स्कल्स जैसी स्पर्धाओं सहित चार पदकों से चूक गए. स्वर्ण पदक के प्रबल दावेदार दत्तू भोकानल से सबसे ज्यादा निराशा हुई क्योंकि सिंगल स्कल्स फाइनल में छठे और अंतिम स्थान पर रहे. डबल स्कल्स में और भी निराशा हाथ लगी जिसमें स्वर्ण सिंह और ओम प्रकाश स्वर्ण पदक जीतने के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे.