close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Asian Games 2018 : समापन समारोह में हॉकी टीम की कप्‍तान रानी रामपाल होंगी भारत की ध्‍वजवाहक

18वें एशियाई खेलों के उद्घाटन समारोह के लिए स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा को भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया था, जिन्होंने इन खेलों में स्वर्ण पदक भी जीत है.

Asian Games 2018 : समापन समारोह में हॉकी टीम की कप्‍तान रानी रामपाल होंगी भारत की ध्‍वजवाहक
(PIC : PTI)

जकार्ता : भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल को 18वें एशियाई खेलों के समापन समारोह के लिए भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया है. भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने को कहा, ‘‘रविवार के कार्यक्रम के लिए रानी को भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया.’’  भारतीय महिला हॉकी टीम को 18वें एशियाई खेलों के फाइनल मेंजापान के हाथों 1-2 से हारकर सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा. जापान के लिए शिहोरी ओइकावा ने 11वें और मोतोमी कावामुरा ने 44वें मिनट में गोल किए. वहीं भारतीय टीम के लिए नेहाल गोयल ने 25वें मिनट में एकमात्र गोल किया. इस हार के साथ ही भारतीय महिला टीम एशियाई खेलों में 36 साल बाद दूसरा गोल्ड मेडल जीतने से चूक गईं. भारत ने 1982 में नई दिल्ली में हुए नौवें एशियाई खेलों में पहली बार गोल्ड मेडल जीता था.

इन खेलों के उद्घाटन समारोह के लिए स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा को भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया था, जिन्होंने इन खेलों में स्वर्ण पदक भी जीता. 23 साल की रानी की कप्तानी में भारतीय महिला हॉकी टीम ने 20 साल के पदकों को सूखा खत्म करते हुए रजत पदक जीता है. टीम हालांकि फाइनल में जापान से 1-2 से हार के कारण 36 साल बाद स्वर्ण पदक जीतने से चूक गई.

भारत के ध्वजावाहक रहे नीरज चोपड़ा ने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन करते हुए 18वें एशियाई खेलों के नौवें दिन में पुरुषों की भाला फेंक स्पर्धा में गोल्ड मेडल अपने नाम किया. नीरज ने अपनी सर्वश्रेष्ठ थ्रो 88.06 मीटर की फेंकी और गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया. नीरज ने यह सोने का तमगा पांच में से दो प्रयासों में विफलता के बाद भी हासिल किया. यह भारत का नौवें दिन का पहला गोल्ड मेडल है. रजत पदक जीतने वाले चीन के किझेन लियू 82.22 मीटर की थ्रो फेंक कर दूसरे स्थान पर तो वहीं पाकिस्तान के नदीम अरशद ने 80.75 की सर्वश्रेष्ठ थ्रो फेंक ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया. 

नीरज ने अपने पहले प्रयास में 83.46 मीटर की थ्रो फेंकी. वहीं उनका दूसरा प्रयास फाउल हो गया. तीसरे प्रयास में उन्होंने 88.06 मीटर की थ्रो फेंक अपना स्वर्ण पक्क कर लिया था और हुआ भी यही. उनकी इस थ्रो के बाद कोई भी खिलाड़ी उनके आस-पास नहीं भटक सका. चौथे प्रयास में नीरज ने 83.25 मीटर की दूरी मापी. उनका आखिरी प्रयास भी फाउल रहा लेकिन इससे नीरज के गोल्ड मेडल पर कोई असर नहीं पड़ा.

Neeraj Chopra

लगभग 550 भारतीय खिलाड़ियों के दल में से ज्यादातर खिलाड़ी स्वदेश लौट गए हैं और ध्वजवाहक का चयन वहां मौजूद खिलाड़ियों में से किया गया.

बता दें कि स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा को 18 अगस्त को जकार्ता में शुरू हुए एशियाई खेलों के उद्घाटन समारोह के लिए भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया था. भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने दल के लिए आयोजित रवानगी समारोह के दौरान यह घोषणा की थी. एशियाई खेलों का आयोजन 18 अगस्त से शुरू हुआ था और दो सितंबर को इसका समापन होना है.