close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Tennis: ऑस्ट्रेलिया ओपन में पहली बार खिलाड़ियों को मिलेगा ‘हीट ब्रेक’

साल 2018 के पहले टेनिस ग्रैंडस्लैम में कई बदलाव नजर आएंगे. इनमें हीट ब्रेक से लेकर टाईब्रेकर के नियम शामिल हैं. 

Tennis: ऑस्ट्रेलिया ओपन में पहली बार खिलाड़ियों को मिलेगा ‘हीट ब्रेक’
ऑस्ट्रेलियन ओपन की सांकेतिक तस्वीर. (फोटो: Reuters)

मेलबर्न: साल के पहले टेनिस ग्रैंडस्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open 2019) में खिलाड़ियों की एक शिकायत हमेशा ही रही है कि यहां गर्मी बहुत ज्यादा होती है. यह परेशानी तब और बढ़ जाती है, जब मुकाबले मैराथन हो जाएं. लेकिन इस बार आयोजकों ने खिलाड़ियों की इस परेशानी से निजात दिलाने का रास्ता निकाल लिया है. आयोजकों ने अगले साल होने वाले इस टूर्नामेंट में खिलाड़ियों को मैच के दौरान ब्रेक देने का निर्णय लिया है.  

ऑस्ट्रेलिया ओपन के आयोजकों का कहना है कि अगर अगले साल तापमान अधिक रहा, तो खिलाड़ियों को मैच के दौरान 10 मिनट का ब्रेक दिया जाएगा. विशेषकर पुरुष सिंगल्स में खेलने वाले खिलाड़ियों को यह राहत दी जाएगी. नए साल में टेनिस में सिर्फ ऑस्ट्रेलियन ओपन में ही बदलाव नहीं हो रहा है, बल्कि डेविस कप (टीम टूर्नामेंट) भी नए फॉर्मेट में होना है.  

यह भी पढ़ें: 2019 में बदला-बदला होगा ऑस्ट्रेलियन ओपन, ‘बोरिंग खेल’ रोकने के लिए बदले नियम

इस साल जनवरी में हुए ऑस्ट्रेलिया ओपन में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था. इसे देखते हुए टूर्नामेंट के आयोजकों ने ‘एक्स्ट्रीम हीट पॉलिसी’ निकाली है. इस टूर्नामेंट में महिला खिलाड़ियों और जूनियर खिलाड़ियों को 10 मिनट का ब्रेक दिया जाता है. व्हीलचेयर खिलाड़ियों के लिए यह ब्रेक 15 मिनट का होता है और अब पुरुष सिंगल्स में खेलने वाले खिलाड़ियों के लिए भी यह पॉलिसी निकाली जानी है. 

ऑस्ट्रेलिया ओपन अगले साल 14 जनवरी से मेलबर्न में खेला जाएगा और ऐसे में टूर्नामेंट के निदेशक क्रेग टिले का कहना है कि खिलाड़ियों का स्वास्थ्य सबसे बड़ी प्राथमिकता है. ऐसे में इस पॉलिसी के तहत अगर ऑस्ट्रेलिया ओपन में तापमान 40 डिग्री तक पहुंचेगा, तो तीसरे सेट में पुरुष सिंगल्स के खिलाड़ियों को 10 मिनट का ब्रेक दिया जाएगा. 

ऑट्रेलियन ओपन में इस बार 10 अंकों के टाईब्रेकर का नियम भी लागू किया जा रहा है. यह टाईब्रेकर अंतिम सेट में 6-6 से स्कोर बराबर हो जाने पर उपयोग में लिया जाएगा. अमेरिका ओपन और विंबलडन में भी टाईब्रेकर का इस्तेमाल किया जाता है. फ्रेंच ओपन इकलौता ऐसा ग्रैंडस्लैम है जो अभी तक अंतिम सेट में दो गेम के एडवांटेज वाले प्रारुप में खेला जाता है. माना जा रहा है फ्रेंच ओपन भी टाईब्रेकर का नियम अपनाने के लिए विचार कर सकता है. 

(इनपुट: आईएएनएस)