close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ी क्यों हैं अपनी सरकार से खफा?

बजरंग पुनिया और महिला पहलवान वीनेश फोगाट के अलावा कई खिलाड़ियों ने भी सरकार की इस नई नीति का विरोध किया है.

देश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ी क्यों हैं अपनी सरकार से खफा?
पहलवान बजरंग पूनिया और महिला पहलवान विनेश फोगाट. (फोटो साभार: सोशल मीडिया)

चंडीगढ़: एशियाई खेलों (Asian Games) में गोल्ड मेडल जीतने वाले पहलवान बजरंग पुनिया (Bajrang Punia) और महिला पहलवान वीनेश फोगाट (Vinesh Phogat) ने अपने राज्य हरियाणा की सरकार की नई नगद इनाम नीति की कड़ी आलोचना की है. बजरंग ने कहा कि हरियाणा सरकार के इस फैसले से प्रदेश में खेलों को खत्म करने की कोशिश की जा रही है. जब सरकार विजेताओं को इनाम देने की बात करती है तो उसके साथ ही खिलाड़ियों का साथ देने की बात भी करती है.

क्या है नई नीति में
बजरंग के ख़फ़ा होने का कारण हरियाणा सरकार द्वारा बनाई हुई नगद इनाम नीति है, जिसमें सरकार के मुताबिक अगर एक खिलाड़ी वित्तीय वर्ष में एक से ज्यादा मेडल जीतता है तो उसे उसके द्वारा जीते गए सबसे बड़े मेडल के लिए दी की गई पूरी राशि मिलेगी ,लेकिन दूसरे व इसके बाद वाले पदकों के लिए उसे सिर्फ 50 फीसदी राशि ही मिलेगी.

विरोध में ये खिलाड़ी
खिलाडियों का कहना है कि सरकार का जीती हुई राशि से रकम कम करना गलत है, यह उसके वादा पूरा करने को उजागर नहीं करता. बजरंग पुनिया और महिला पहलवान वीनेश फोगाट के अलावा प्रदेश के कई अन्य खिलाड़ियों ने भी इस नई नीति का विरोध किया है.

मंत्री का बयान
खिलाड़ियों के बयान सुनने के बाद राज्य के खेल मंत्री अनिल विज ने मीडिया के सामने आते हुए कहा कि अगर किसी खिलाड़ी को पुरस्कर की राशि को लेकर किसी तरह की समस्या है तो वह हमसे सीधे बात कर सकता है, परंतु हम अपनी नीति पर कायम हैं.

(इनपुट-आईएएनएस)