BCCI को खिलाड़ियों की थकान के मुद्दे पर ध्यान देना चाहिए: वेंकटपति राजू

भारतीय क्रिकेट टीम के व्यस्त अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता वेंकटपति राजू ने कहा है कि बीसीसीआई को खिलाड़ियों की थकान के मुद्दे को ध्यान में रखना चाहिए और उसके पास गेंदबाजों की बैकअप टीम होनी चाहिए।

BCCI को खिलाड़ियों की थकान के मुद्दे पर ध्यान देना चाहिए: वेंकटपति राजू

कोलकाता : भारतीय क्रिकेट टीम के व्यस्त अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता वेंकटपति राजू ने कहा है कि बीसीसीआई को खिलाड़ियों की थकान के मुद्दे को ध्यान में रखना चाहिए और उसके पास गेंदबाजों की बैकअप टीम होनी चाहिए।

वर्ष 2011 के विश्व चैम्पियन भारत ने हाल में संपन्न विश्व कप में शानदार प्रदर्शन किया लेकिन सेमीफाइनल में उसे आस्ट्रेलिया के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा जो बाद में चैम्पियन बना।

विश्व कप 1992 और 1996 में भारतीय टीम का हिस्सा रहे बायें हाथ के स्पिनर राजू ने कहा कि प्रणाली में कुछ भी गलत नहीं है लेकिन ‘ए’ दौरों के आयोजन की सख्त जरूरत है जिससे कि रिजर्व खिलाड़ियों का पूल तैयार किया जा सके।

राजू ने कहा, भारतीय खिलाड़ी अन्य खिलाड़ियों की तुलना में अधिक क्रिकेट खेल रहे हैं। इसलिए हमेशा थकान का मुद्दा रहता है। हमारे पास कम से कम पांच से छह तेज गेंदबाज और तीन से चार स्पिनरों का बैकअप हमेशा रहना चाहिए। उन्होंने कहा, हमारे पास अश्विन और जडेजा जैसे कुछ अहम खिलाड़ी हैं जो लंबे और छोटे सभी प्रारूपों में खेलते हैं। इसलिए हमेशा थकान का खतरा रहता है। इस मुद्दे से निपटने के लिए हमारे पास योजना होनी चाहिए।

जडेजा विश्व कप से पूर्व कंधे की चोट से उबरने में कामयाब रहे लेकिन इस आलराउंडर की फार्म ने भारत को निराश किया। राजू ने कहा कि सौराष्ट्र के इस आलराउंडर के लिए उबरकर तुरंत अच्छा प्रदर्शन करना मुश्किल था। जडेजा का उदाहरण देते हुए राजू ने कहा कि हमेशा वैकल्पिक योजना तैयार रखने की जरूरत है।

उन्होंने कहा, विश्व कप में खेलने से पहले वह मैच विजेता था लेकिन उसकी फार्म में गिरावट आई। यह देखना निराशाजनक था। लेकिन जब आप वापसी करते हो तो ऐसा होता है। शीर्ष स्तर पर सामंजस्य बैठाना मुश्किल होता है। वर्ष 1992 विश्व कप में नाकआउट में जगह बनाने वाली टीम का हिस्सा रहे राजू ने टेस्ट और त्रिकोणीय श्रृंखला में खराब प्रदर्शन के बाद पासा पलटने का श्रेय टीम को दिया।

उन्होंने कहा, सभी ने हमें खारिज कर दिया था लेकिन धोनी की टीम ने सभी मैच जीतकर अंतिम चार में जगह बनाकर खुद को साबित किया। आस्ट्रेलिया के अजेय अभियान पर राजू ने कहा, आस्ट्रेलिया के गेंदबाजों के पास प्रत्येक भारतीय बल्लेबाज के लिए योजना थी और उन्होंने इस योजना को शानदार तरीके से लागू किया।

अगला टी20 विश्व कप भारत में खेला जाएगा और राजू का मानना है कि 2007 का चैम्पियन भारत एक बार फिर प्रबल दावेदार होगा। उन्होंने कहा, टी20 विश्व कप जब भारत में होगा तो उनसे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। मुझे यकीन है कि वे एक बार फिर अच्छा प्रदर्शन करेंगे और शीर्ष चार टीमों में शामिल रहेंगे। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा, प्रत्येक कप्तान का खेलने का अपना तरीका होता है और धोनी इस शैली पर बरकरार रहता है और कई बार यह उसके लिए फायदेमंद साबित हुआ है। वह ऐसा खिलाड़ी है जिसने हाल में हमें टी20 और वनडे में सफलता दिलाई है।