ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट अभिनव बिंद्रा ने अपने दोनों पदों से दिया इस्तीफा

बीजिंग ओलंपिक में गोल्ड मैडल जीतने वाले इस खिलाड़ी ने अपने दोनों पदों से इस्तीफा दे दिया है.

ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट अभिनव बिंद्रा ने अपने दोनों पदों से दिया इस्तीफा
बीजिंग ओलंपिक में गोल्ड जीतने वाले अकेले खिलाड़ी हैं अभिनव बिंद्रा. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: ओलंपक में गोल्ड मैडल जीतने वाले निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने अपने दोनों पदों से इस्तीफा दे दिया है. अभिनव बिंद्रा ने शूटिंग के नेशनल ऑब्जर्वर के साथ साथ टार्गेट ओलंपिक पोडियम (टीओपी) के चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया है. इसकी घोषणा उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर भी कर दी. दरअसल अभिनव बिंद्रा ने इस्तीफा हितों के टकराव को लेकर हो रही चर्चा के बीच दिया है. उन्होंने इसके लिए 22 दिसंबर को खेलमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को पत्र लिखकर पद से इस्तीफा देने की पेशकश की थी.

बिंद्रा ने 22 दिसंबर को खेल मंत्री से निजी परियोजनाएं से जुड़ने के कारण हितों के टकराव का हवाला देते हुए उन्हें राष्ट्रीय पर्यवेक्षक (शूटिंग) और टॉप समिति के अध्यक्ष पद से हटाने की मांग की थी. बिंद्र ने राठौड़ को पत्र लिखकर कहा, ‘अब मैं खुद को निजी परियोजनाएं से ज्यादा जोड़ रहा हूं, जिसमें देश भर में अभिनव बिंद्रा टारगेट प्रदर्शन केंद्र की स्थापना और संचालन शामिल है. इसलिए मुझे लगता है कि ये पद हितों के टकराव का मुद्दा हो सकता है, क्योंकि इन केन्द्रों पर ज्यादा खिलाड़ी प्रशिक्षण लेंगे.’

VIDEO: जिंदर महल को हराकर ट्रिपल एच ने रेसलिंग रिंग में किया भांगड़ा

बिंद्रा ने सरकारी पदों की पवित्रता बनाए रखने की आवश्यकता पर जोर दिया. बीजिंग ओलंपिक के स्वर्ण पदकधारी ने लिखा, ‘मैं आप से गंभीरता से निवेदन करता हूं कि मुझे इन दोनों पद से मुक्त करें ताकि हितों के टकराव का मुद्दा ना उठे और इन पदों की पवित्रता बनी रहे.’’ 

यह भी पढ़ें: VIDEO : नंबर 3 पर कौन बल्लेबाजी करेगा, रोहित ने शास्त्री को इशारे में बताया

हाल ही में ओलंपिक विजेता मुक्केबाज मैरी कॉम और पहलवान सुशील कुमार ने भी राष्ट्रीय पर्यवेक्षक पद से इस्तीफा दिया है. बता दें, खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के यह स्पष्ट करने के बाद कि कोई भी सक्रिय खिलाड़ी खेलों में राष्ट्रीय पर्यवेक्षक नहीं हो सकता, पांच बार की विश्व चैम्पियन एम सी मैरीकॉम ने भी मुक्केबाजी में राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के पद से इस्तीफा दे दिया था. पिछले महीने पांच बार की एशियाई चैम्पियनशिप में गोल्ड मैडल जीतने वाली मैरीकॉम ने कहा था, ‘मैने दस दिन पहले ही खेलमंत्री से बात करने के बाद राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के पद से इस्तीफा दे दिया.

साथ ही मैरीकॉम ने कहा, मैंने यह पद मांगा नहीं था, मुझसे इस पद को ग्रहण करने के लिए कहा गया था. उन्होंने कहा, ‘मैने तत्कालीन खेल सचिव इंजेती श्रीनिवास से उस समय पूछा भी था कि सक्रिय खिलाड़ियों को पर्यवेक्षक नहीं बनाने के बारे में क्या नियम है. उस समय मुझे बताया गया कि मैं यह पद स्वीकार कर लूं.