स्पेन के खिलाफ डेविस कप से हटने पर हटाये गए बोपन्ना

भारत का प्रतिनिधित्व करने के मामले में पसंदीदा टूर्नामेंट का चयन करने वाले खिलाड़ियों को कड़ा सदेश देने के लिये रोहन बोपन्ना को डेविस कप टीम से बाहर किया गया क्योंकि वह ‘चोट का बहाना’ बनाकर स्पेन के खिलाफ मुकाबले से हट गये थे। अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) के सूत्रों ने आज यह दावा किया। 

स्पेन के खिलाफ डेविस कप से हटने पर हटाये गए बोपन्ना

चेन्नई : भारत का प्रतिनिधित्व करने के मामले में पसंदीदा टूर्नामेंट का चयन करने वाले खिलाड़ियों को कड़ा सदेश देने के लिये रोहन बोपन्ना को डेविस कप टीम से बाहर किया गया क्योंकि वह ‘चोट का बहाना’ बनाकर स्पेन के खिलाफ मुकाबले से हट गये थे। अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) के सूत्रों ने आज यह दावा किया। 

बोपन्ना सितंबर 2016 में विश्व ग्रुप प्लेआफ में नहीं खेले जो एआईटीए को नागवार गुजरा। एआईटीए अधिकारियों का मानना था कि बोपन्ना ने चोटिल होने का बहाना बनाया। एटीपी टूर में अपनी शानदार सर्विस के लिये मशहूर बोपन्ना ने मुकाबले के आखिरी दिन 18 सितंबर को इंस्टाग्राम पर एक वीडियो पोस्ट किया था जिसमें उन्हें बेंगलुरू में उससे पहली रात दोस्तों के साथ नाचते हुए दिखाया गया था। 

एआईटीए के सूत्रों ने कहा, ‘हमने अपनी आंखें बंद नहीं कर रखी हैं। यदि कोई खिलाड़ी देश की तरफ से खेलने के लिये खास भावना नहीं रखता तो वह टीम में जगह का हकदार नहीं है। वह महत्वपूर्ण मुकाबला था और हम उम्मीद कर रहे थे खिलाड़ी एकजुट होकर उस चुनौती का सामना करें।’ 

चयन समिति के अध्यक्ष एसपी मिश्रा ने कहा था कि बोपन्ना का स्पेन के खिलाफ हटने के मसले पर न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले के लिये टीम के चयन के दौरान चर्चा नहीं की गयी। उन्होंने कहा था कि उन्हें तीन एकल और दो युगल खिलाड़ियों का चयन करने के निर्देश दिये गये थे। बोपन्ना (विश्व रैंकिंग 28) युगल में भारत के सबसे अधिक रैंकिंग के खिलाड़ी हैं लेकिन उन पर अनुभवी लिएंडर पेस (विश्व रैंकिंग 59) को तवज्जो दी गयी। 

एआईटीए के महासचिव हिरणमय चटर्जी ने संकेत दिये कि बोपन्ना का स्पेन के खिलाफ नहीं खेलना मसला था। उन्होंने कहा, ‘सभी पूर्व डेविस कप खिलाड़ी चयनकर्ता हैं। उन्होंने सभी मसलों पर चर्चा की जिनमें न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले परिणाम और रोहन का स्पेन मुकाबले से बाहर रहना भी शामिल था। व्यापक विचार विमर्श के बाद उन्होंने टीम का चयन किया। मुझे लगता है कि सभी संबंधित व्यक्तियों को फैसले का सम्मान और स्वीकार करना चाहिए।’ 

बोपन्ना ने खुद का बचाव किया और कहा कि वह चोटिल थे और जरूरत पड़ने पर पांच सेट के मुकाबले में खेलने के लिये फिट नहीं थे। उन्होंने कहा, ‘मुझे हैरानी है कि कोई इस तरह से सोचेगा। यूएस ओपन में मिश्रित युगल के मैच के बाद मैं फिजियो के पास गया और उन्होंने बताया कि मेरे घुटने में कुछ तरल पदार्थ है और इसमें सूजन आ गयी है इसलिए मुझे दस दिन का विश्राम लेना होगा। मैंने पहले ही बता दिया था कि मुझे दस दिन के विश्राम की जरूरत है।’ 

बोपन्ना से उस वीडियो के बारे में पूछा गया जिसमें वह नाच रहे हैं, उन्होंने कहा कि इसका मतलब यह नहीं है कि वह खेलने के लिये फिट थे। उन्होंने कहा, ‘मैं एक बार 100 मीटर की फर्राटा दौड़ सकता हूं लेकिन पांच सेट तक लगातार सर्व और वॉली संभव नहीं है। मैंने कभी नहीं कहा कि में दौड़ नहीं सकता हूं या चल नहीं सकता हूं या कूद नहीं सकता हूं। मैं शत प्रतिशत फिट नहीं था। एक टेनिस खिलाड़ी के तौर पर में मैं इसे इस तरह से देखता हूं। क्या पता कि वे मुझे एकल में खेलने के लिये कह देते जैसे चंडीगढ़ में कहा था। इसलिए मैं इसे संपूर्ण रूप से देख रहा हूं। उन्हें खिलाड़ी को समझने की जरूरत है।’