'हल्के में नहीं ले सकते श्रीलंका को, ओपनिंग को लेकर प्रेशर न ले शिखर या अभिनव'

कोहली ने नियमित सलामी बल्लेबाज मुरली विजय की कलाई की चोट को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया, लेकिन खिलाड़ियों की अपनी फिटनेस स्थिति को लेकर ईमानदार बनने के लिये तारीफ भी की.

'हल्के में नहीं ले सकते श्रीलंका को, ओपनिंग को लेकर प्रेशर न ले शिखर या अभिनव'
भारतीय कप्तान विराट कोहली की फाइल फोटो.

कोलंबो: भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि शिखर धवन या अभिनव मुकुंद में से जो भी श्रीलंका के खिलाफ गाले में पहले टेस्ट मैच में केएल राहुल के साथ पारी का आगाज करेगा उसे प्रदर्शन का दबाव महसूस करने के बजाय इसे एक मौके के तौर पर लेना चाहिए. उन्होंने नियमित सलामी बल्लेबाज मुरली विजय की कलाई की चोट को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया, लेकिन खिलाड़ियों की अपनी फिटनेस स्थिति को लेकर ईमानदार बनने के लिये तारीफ भी की.

कोहली ने यहां पहुंचने के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘टीम में आने वाला प्रत्येक खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करना चाहता है. चोट खेल का दुर्भाग्यपूर्ण हिस्सा है. विजय रिहैब से लौटा था और एक मैच खेला था और उसने चयनकर्ताओं से कहा कि वह मैच फिट नहीं है. इस तरह की संस्कृति पैदा की गयी है. लोग ईमानदार हैं.’ 

उन्होंने कहा, ‘अभिनव मुकुंद यहां हैं. उसने काफी घरेलू क्रिकेट खेली है. शिखर ने पिछली बार यहां शतक लगाया था और इसके बाद वह दो मैचों में नहीं खेल पाया था.’ कोहली ने कहा, ‘चेतेश्वर पुजारा ने (पिछले दौरे के) अंतिम टेस्ट मैच में पारी का आगाज किया था. इसलिए खिलाड़ी इस तरह की परिस्थिति में दबाव में आने के बजाय उसे मौके के तौर पर लेते हैं. मुझे पूरा विश्वास है कि वे इसका फायदा उठाएंगे.’ श्रीलंका ने जिम्बाब्वे के खिलाफ में वनडे श्रृंखला गंवायी, लेकिन कोहली ने कहा कि वह अपने इस प्रतिद्वंद्वी को हल्के से नहीं ले सकते हैं.

उन्होंने कहा, ‘इसका मतलब नहीं बनता. मुझे याद है कि दो साल पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद हम यहां आये थे. हमारी रैंकिंग छह या सात थी. श्रीलंका में उस श्रृंखला ने हमारे अंदर विश्वास पैदा किया था. उससे हमें टीम के रूप में एकजुट होने की सीख मिली थी. पिछली श्रृंखला में हमने पहला मैच गंवाने के बाद जिस तरह से वापसी करके 2-1 से जीत दर्ज की वह शानदार था.’ कोहली ने कहा, ‘हम जानते हैं कि हमें कड़ी मेहनत करनी होगी. आपको खेल का सम्मान करना होगा.’