मोहन बागान ने 8 साल बाद जीती ट्रॉफी, क्लब के अध्यक्ष ने कहा- 7 साल से बेटी हो रही थी, अब बेटा हुआ है

मोहन बागान ने बुधवार को कलकत्ता कस्टम्स को 2-0 से हराकर कलकत्ता फुटबॉल लीग (सीएफएल) जीत ली.

मोहन बागान ने 8 साल बाद जीती ट्रॉफी, क्लब के अध्यक्ष ने कहा- 7 साल से बेटी हो रही थी, अब बेटा हुआ है
मोहन बागान के प्रशंसक अपनी टीम की जीत का जश्न मनाते हुए. (फोटो: IANS)

कोलकाता: मोहन बागान ने बुधवार को कलकत्ता कस्टम्स को 2-0 से हराकर कलकत्ता फुटबॉल लीग (सीएफएल)  जीत ली. उसने 2010 के बाद पहली बार यह खिताब जीता है. जीत से पहले ही मोहन बागान क्लब के अध्यक्ष ने विवादित बयान भी दे दिया. इससे जीत का जश्न थोड़ा फीका पड़ गया. 

मोहन बागान ने बुधवार को कलकत्ता कस्टम्स के खिलाफ शुरू से ही शानदार प्रदर्शन किया. उसने पहले ही हाफ में दोनों गोल कर अपनी जीत लगभग पक्की कर ली थी. उसकी तरफ से हेनरी किसेका ने चौथे और 45वें मिनट में गोल किए. मोहन बागान ने एक मैच शेष रहते ही खिताब अपने नाम कर लिया है. उसके 26 अंक हैं. बागान ने 30वीं बार यह खिताब जीता है. 

ईस्ट बंगाल का आठ से चला आ रहा वर्चस्व टूटा 
मोहन बागान ने इस जीत से ईस्ट बंगाल का पिछले आठ से चला आ रहा वर्चस्व भी खत्म कर दिया. ईस्ट बंगाल ने 39 बार यह खिताब जीता है, लेकिन लगातार दो हार से उसकी इस बार खिताब का बचाव करने की उम्मीदों पर पानी फिर गया. उसका अभी एक मैच बचा है और उसके 20 अंक हैं. 

10 में से 8 मैच जीतकर चैंपियन बना बागान 
कलकत्ता फुटबॉल लीग के इस सीजन में 12 टीमों ने हिस्सा लिया. इनमें मोहन बागान और ईष्ट बंगाल ने 10-10 मैच खेल लिए हैं. बागान ने 10 मैचों में से 8 जीतकर 26 अंक हासिल कर लिए हैं. ईष्ट बंगाल 6 जीत और 20 अंक के साथ दूसरे नंबर पर है. अब अगर ईष्ट बंगाल अपना आखिरी मैच जीत ले और बागान हार भी जाए, तब भी नतीजे पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. 

जीत पक्की होने पर बोस ने दिया विवादित बयान 
हॉफ टाइम के दौरान मोहन बागान के अध्यक्ष स्वप्न साधन बोस ने विवादित बयान दे दिया. वेबसाइट गोल डॉट कॉम के मुताबिक बोस ने जीत पक्की होने के सवाल पर कहा, ‘पिछले सात साल से बेटियां हो रही थीं, अचानक एक बेटा पैदा हो गया है. यदि आपके साथ ऐसा हो तो कैसा महसूस करेंगे? मैं भी अभी ऐसा ही महसूस कर रहा हूं.

120 साल से खेली जा रही है कलकत्ता फुटबॉल लीग 
कलकत्ता फुटबॉल लीग का यह 120 सीजन है. पहली बार यह टूर्नामेंट 1898 में खेला गया था. ईस्ट बंगाल ने इसे सबसे अधिक 39 बार जीता है. इसके बाद मोहन बागान 30 खिताब के साथ दूसरे नंबर पर है. तीसरे नंबर पर मोहम्मडन स्पोर्टिंग क्लब है. यह लीग में 11 बार चैंपियन बन चुका है.