close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

CT17 : 50 ओवरों में जो नहीं कर पाए 'अंग्रेज', पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने चार गेंदों में कर दिखाया

पाकिस्तानी गेंदबाजों ने शानदार वापसी करते हुए आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी के पहले सेमीफाइनल में बुधवार को मेजबान इंग्लैंड को बड़ा स्कोर करने से रोक दिया.

CT17 : 50 ओवरों में जो नहीं कर पाए 'अंग्रेज', पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने चार गेंदों में कर दिखाया
फखर जमान ने चौथी ही गेंद पर जड़ा शानदार छक्का (PIC : ICC)

नई दिल्ली : पाकिस्तानी गेंदबाजों ने शानदार वापसी करते हुए आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी के पहले सेमीफाइनल में बुधवार को मेजबान इंग्लैंड को बड़ा स्कोर करने से रोक दिया. सोफिया गरडस मैदान पर पाकिस्तानी गेंदबाजों की सटीक लाइन लैंथ के चलते इंग्लैंड 49.5 ओवरों में 211 रनों पर ही सिमट गई. 

ऊपरी क्रम ने इंग्लैंड को सधी हुई शुरुआत दी थी लेकिन, मध्यक्रम पाकिस्तानी गेंदबाजों का अगे ढह गया और निचला क्रम टीम को इससे उबार नहीं पाया. नतीजन इंग्लैंड अहम मैच में पाकिस्तान के सामने 212 रनों का ही लक्ष्य रख पाई. इस मैच में एक खास बात ये रही कि इंग्लैंड ने अपनी पारी के दौरान एक भी छक्का नहीं मारा. बेन स्टोक्स, जो रूट, इओन मोर्गन, एलेक्स हेल्स, जोश बटलर जैसे दिग्गज बल्लेबाजों के होते हुए भी पारी में कोई सिक्स नहीं लग पाया. वहीं, दूसरी ओर पाकिस्तानी बल्लेबाजों ने ये कारनामा अपनी पारी की चौथी ही गेंद में कर दिया. 

पाकिस्तान के ओपनर फखर जमां ने मैच की चौथी गेंद पर इंग्लैंड के गेंदबाज मार्क वुड की गेंद पर शानदार छक्का जड़ा. 

वहीं, इंग्लैंड की पारी में फखर जमां ने एक शानदार कैच भी पकड़ा था. जुनैद खान की गेंद पर जमां ने मोइन अली का शानदार कैच लपका.

गौरतलब है कि पाकिस्तानी कप्तान सरफराज अहमद ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी. उनके गेंदबाजों ने उन्हें निराश नहीं किया. इंग्लैंड के बल्लेबाज इस मैच में सिर्फ 15 चौके ही लगा सके जबिक एक भी छक्का मेजबानी टीम के बल्लेबाजों के बल्ले से नहीं निकला. 

पाकिस्तान के सबसे सफल गेंदबाज हसन अली रहे. उन्होंने अपने कोटे के 10 ओवरों में सिर्फ 35 रन दिए और तीन विकेट हासिल किए. साथ ही वह चैम्पियंस ट्रॉफी के एक संस्करण में पाकिस्तान की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज भी बन गए हैं. 

जेसन रॉय की जगह इस मैच में शामिल किए गए जॉनी बयर्सटो ने एलेक्स हेल्स (13) के साथ पारी की शुरुआती. हेल्स के रूप में इंग्लैंड ने अपना पहला विकेट 34 के कुल स्कोर पर खोया. वह अपना पहला मैच खेल रहे रुमान रइस का शिकार बने. 

इंग्लैंड के बल्लेबाजी क्रम की रीढ़ जोए रूट ने क्रिज पर कदम रखा. बयर्सटो और रूट ने टीम का स्कोर 80 तक पहुंचाया. यहीं हसन ने बेयर्सटो को अर्धशतक से सात रन दूर रखा और मोहम्मद हफीज के हाथों कैच करा पवेलियन भेजा. 

बेयर्सटो ने 57 गेंदों में चार चौकों की मदद से 43 रन बनाए. रूट भी अर्धशतक नहीं लगा सके. शादाब खान ने उन्हें 128 के कुल स्कोर पर विकेट के पीछ कप्तान सरफराज के हाथों कैच कराया. रूट ने 46 रन बनाने के लिए 56 गेंदें खेली और दो चौके लगाए. 

कप्तान मोर्गन 33 रनों के निजी स्कोर पर हसन का दूसरा शिकार बने. यहां से इंग्लैंड की पारी लड़खड़ा गई और लगातार विकेट गिरते रहे. 

बेन स्टोक्स अकेले संघर्ष करते रहे लेकिन, दूसरे छोर पर अन्य बल्लेबाज पांव नहीं जमा सके. पाकिस्तानी गेंदबाजों ने हालांकि स्टोक्स को भी हाथ नहीं खोलने दिए. 34 रन बनाने के लिए स्टोक्स ने 64 गेंदें ली और एक भी चौका या छक्का उनके बल्ले से नहीं निकला. वह 201 के कुल स्कोर पर हसन का शिकार बने. 

लियाम प्लंकट (9) और मार्क वुड (3) के रूप में इंग्लैंड ने अपने आखिरी दो विकेट खोए. जैक बॉल दो रनों पर नाबाद लौटे.

हसन के अलावा पाकिस्तान की तरफ से जुनैद खान और रइस को दो-दो सफलताएं मिलीं. शादाब एक विकेट लेने में सफल रहे. इमद वसीम को एक भी विकेट नहीं मिला लेकिन उन्होंने किफायती गेंदबाजी की और पांच ओवरों में सिर्फ 16 रन खर्च किए. 

(एजेंसी इनपुट के साथ)