चैंपियंस ट्रॉफी 2017 : इन पांच भारतीय बल्लेबाजों के बल्ले से बरसे रन

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 : इन पांच भारतीय बल्लेबाजों के बल्ले से बरसे रन
चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में ये बल्लेबाज रहे सुपरहिट

भारत चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में अपने खिताब को तो नहीं बचा पाया, लेकिन बल्लेबाजी में पांच ऐसे नगीने रहे जिनकी इस चैंपियंस ट्रॉफी में धूम रही है. इनके बल्ले ने खूब रन बरसाए. 

शिखर धवन

चैंपियंस ट्रॉफी में शिखर धवन का बल्ला जम कर रन बरसा रहा है. अब तक हुई आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में शिखर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बन गये हैं. जब सेमीफाइनल में उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ 46 रन की पारी खेली तो उन्होंने पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को पछा़ड़ दिया. धवन अब तक चैंपियंस ट्रॉफी में 701रन बनाए हैं. इस सूची में दूसरा नाम गांगुली और तीसरा नाम राहुल द्रविड़ का है. राहुल ने 627 रन बनाए हैं. सचिन तेंदुलकर 441  रन बनाकर चौथे स्थान पर हैं. धवन ने सचिन के आईसीसी टूर्नार्मेंट में सबसे तेज 1100 रन बनाने के रिकार्ड को भी तोड़ दिया है. इसके लिए उन्होंने 17 पारियां खेलीं, जबकि सचिन ने 18 और गांगुली ने 20 पारियां खेली थीं. धवन ने इस बार के अब तक खेले 5 मुकाबलों में भी 338रन बना चुके हैं. इसमें एक शतक भी शामिल हैं. चैंपियंस ट्रॉफी के अंतिम मैच को छोड़ दें तो शिखर का बल्ला जम कर बरसा है.

रोहित शर्मा

रोहित क्लासी प्लेयर हैं. शिखर के साथ उनकी शुरुआत इस चैंपियंस ट्रॉफी में शानदार रही है. दोनों ने भारत को अच्छी शुरुआत दी, जिससे भारत अच्छे रन बना पाया. रोहित खुद 5 पारियों में 304 रन बना चुके हैं. इसमें सेमीफाइनल में उनके द्वारा बनाये गये शानदार 123 अविजित रन भी शामिल हैं. चैंपियंस ट्रॉफी के फानल मैच में रोहित शर्मा अपने खाता भी नहीं खोल पाए और तीन गेंद खेलकर आउट हो गए. 

विराट कोहली

भारतीय कप्तान विराट कोहली के लिए भी यह टूर्नामेंट अच्छा ही कहा जाएगा बावजूद इसके कि वह अपने खिताब की रक्षा नहीं कर पाये. लेकिन उन्होंने शानदार कप्तानी की और टीम को फाइनल तक ले गये. उन्होंने खुद टीम को लीड करते हुए 5 पारियों में 258 रन बनाए. उनका औसत 51.6 का रहा. उन्होंने ये रन 100 से अधिक की स्ट्राइक रेट से बनाए. मैदान पर भी उनके कई फैसले अहम रहे. खासतौर पर बांग्लादेश के खिलाफ केदार जाधव से गेंदबाजी कराना, मैच में निर्णायक साबित हुआ. हालांकि अंतिम मैच में उमेश यादव को ना खिलाना उनके लिए नुकसानदायक साबित हुआ.

हार्दिक पांड्या

हार्दिक पांड्या को इस चैंपियंस ट्रॉफी में छक्कों के लिए याद किया जाएगा. पाकिस्तान के खिलाफ पहले ही मैच में हार्दिक ने दिखाया कि वह जरूरत पड़ने पर किस तरह का क्रिकेट खेल सकते हैं. उन्होंने लगातार तीन गेंदों पर तीन छक्के मारे. 6 गेंदों पर 20 रन की आक्रामक पारी ने हार्दिक पांड्या की काबिलियत को दिखाया. अंतिम मैच में भी पांड्या ने शानदार पारी खेली. उन्होंने उस समय भारतीय पारी को संभालने की कोशिश की जब एक सिरे से लगातार विकेट गिर रहे थे. पांड्या ने 43 गेंदों पर 76 रन की शानदार पारी खेली. इसमें छह छक्के भी शामिल हैं. विराट कोहली ने टूर्नामेंट के बाद कहा कि उनमें महान खिलाड़ी बनने के सभी गुण मौजूद हैं. 

युवराज सिंह

इस चैंपियंस ट्रॉफी में भारत के आक्रामक बल्लेबाज युवराज सिंह से बहुत ज्यादा उम्मीदें थीं. टूर्नामेंट से पहले विराट कोहली ने कहा भी था कि युवराज मैच जिताने वाले प्लेयर हैं. चैंपियंस ट्रॉफी के पहले ही मैच में युवराज ने अपने बल्ले की चमक दिखाई. भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 3 विकेट खोकर 319 रनों का स्कोर खड़ा किया. रोहित, शिखर विराट सबका बल्ला चला. लेकिन युवराज सिंह ने महज 32 गेंदों पर शानदार 53 रन की पारी खेली. इसमें 8 चौके और एक छक्का शामिल था. हालांकि बाद में युवराज कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पाए.