इंडिया ओपन: लगातार दूसरी बार फाइनल में हारे टिएन चेन, चीन के शी युकी ने अपने नाम किया खिताब

दूसरे साल फाइनल में हारने वाले टिएन चेन ने कहा कि इस साल उनका लक्ष्य एशियाई खेल हैं जिनमें वह अपने देश के लिए पदक जीतना चाहते हैं.

इंडिया ओपन: लगातार दूसरी बार फाइनल में हारे टिएन चेन, चीन के शी युकी ने अपने नाम किया खिताब
ताइवान के चाउ टिएन चेन को हराने के बाद खुशी जाहिर करते चीन के चौथे वरीय शी युकी. (PTI/4 Feb, 2018)

नई दिल्ली: चीन के चौथे वरीय शी युकी ने रविवार (4 फरवरी) को यहां एकतरफा फाइनल में चीनी ताइपे के तीसरे वरीय चाउ टिएन चेन को हराकर 350000 डॉलर इनामी इंडिया ओपन बीडब्ल्यूएफ सुपर 500 टूर्नामेंट का पुरुष एकल का खिताब जीत लिया. गत उप विजेता टिएन चेन को चीन के खिलाड़ी के खिलाफ 47 मिनट में 18-21 14-21 से हार का सामना करना पड़ा और लगातार दूसरे साल वह इंडिया ओपन में उपविजेता रहे. शी युकी के खिलाफ दो मैचों में यह टिएन चेन की दूसरी हार है. पिछले साल शी युकी ने दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स में भी चीनी ताइपे के इस खिलाड़ी को हराया था. शी युकी का 2016 के बाद यह पहला खिताब है.

तीसरे वरीय और दुनिया के सातवें नंबर के खिलाड़ी टिएन चेन को यहां पिछले साल दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी डेनमार्क के विक्टर एक्सेलसन के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था. शी युकी को खिताब जीतने के लिए 26250 डालर की राशि मिली जबकि टिएन चेन को 13300 डॉलर मिले. टिएन चेन ने पहले गेम में अधिकांश समय दुनिया के आठवें नंबर के खिलाफ और ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप के उप विजेता शी युकी पर बढ़त बनाए रखी, दमदार स्मैश और तेज खेल की बदौलत 7-4 की बढ़त बना ली. वह ब्रेक के समय 11-7 से आगे थे. चीन के खिलाड़ी ने इस दौरान कुछ सहज गलतियां भी की और कई शॉट नेट पर और बाहर मारे.

इंडिया ओपन के खिताबी मुकाबले में पीवी सिंधू की हार, अमेरिका की झांग बी ने जमाया कब्जा

ब्रेक के बाद चीन के खिलाड़ी ने बेहतर खेल दिखाते हुए वापसी की. उन्होंने पहले स्कोर 12-14 किया और फिर 15-17 के स्कोर पर टिएन चेन की कई गलतियों का फायदा उठाकर लगातार पांच अंक के साथ तीन गेम प्वाइंट हासिल किए. टिएन चेन ने एक गेम प्वॉइंट बचाया, लेकिन शी युकी ने उन्हें चकमा देते हुए बेहतरीन ड्रॉप शॉट के साथ पहला गेम अपनी झोली में डाला.

दूसरे गेम की शुरुआत से ही टिएन चेन फिटनेस को लेकर परेशान दिखे. शी युकी ने शुरुआत में ही बढ़त बना ली और फिर इसे अंत तक बरकार रखते हुए खिताब जीता. वह ब्रेक के समय 11-6 से आगे थे. इस बढ़त को उन्होंने 14-9 और फिर 18-14 तक पहुंचाया. टिएन चेन ने नेट पर शाट मारकर शी युकी को छह चैंपियनशिप प्वॉइंट दिया और अगले अंक में जब वह शी युकी के शॉट को नेट पार कराने में नाकाम रहे जो उन्होंने खिताबी मुकाबला गंवा दिया.

मथियास-क्रिस्टीना ने जीता मिक्स्ड डबल्स, तो इंडोनेशियाई जोड़ी ने पुरुष-महिला युगल टाइटल अपने नाम किया

शी युकी ने मैच के बाद कहा, ‘‘पिछले साल मैं कोई खिताब नहीं जीत पाया था इसलिए इस साल की शुरूआत में ही खिताब जीतने की खुशी है.’’ मैच के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘‘मैच के दौरान टिएन चेन अधिक नर्वस था और मैंने इसका फायदा उठाया और उसे गलती करने के लिए मजबूर किया. निश्चित तौर पर इस जीत से मेरा मनोबल बढ़ा है क्योंकि मैंने कड़े मैच खेले.’’ इस साल के लक्ष्य के बारे में पूछने पर शी युकी ने कहा, ‘‘जब आप एक टूर्नामेंट जीत लेते हो तो दूसरा जीतना चाहते हो और फिर एक और. मेरे साथ भी ऐसा ही है.’’

लगातार दूसरे साल इंडिया ओपन का फाइनल हारने वाले टिएन चेन ने कहा, ‘‘मैंने उसे दबाव में डालने की कोशिश की, लेकिन वह मेरे से अधिक तेज था. मैं तेज स्मैश लगाने की कोशिश की, लेकिन उसे छका नहीं पा रहा था. मैं तीन गेम तक संघर्ष करने के लिए भी तैयार था, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया.’’ टिएन चेन ने कहा कि इस साल उनका लक्ष्य एशियाई खेल हैं जिनमें वह अपने देश के लिए पदक जीतना चाहते हैं.

(इनपुट एजेंसी से भी)