कोरोना वायरस की वजह से ओलंपिक आयोजकों को हो सकता है भारी आर्थिक नुकसान, जानिए कैसे

जापान में कोरोना वायरस की वजह से अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है, इस देश में कोविड-19 का खतरा बढ़ता जा रहा है.

कोरोना वायरस की वजह से ओलंपिक आयोजकों को हो सकता है भारी आर्थिक नुकसान, जानिए कैसे
कोरोना वायरस की वजह से अब तक कई खेल आयोजन रद्द हो चुके हैं

नई दिल्ली: जापान में होने वाले टोक्यो ओलंपिक पर कोरोना वायरस (Corona Virus) का खतरा और गहरा होता जा रहा है. पिछले दिनों जापान के ओलंपिक मंत्री ने कहा था कि इस साल जुलाई-अगस्त में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक 2020 खेल कोरोना वायरस की वजह से दिसंबर तक टल सकता है.

वहीं इंटरनेशनल ओलिंपिक कमेटी के अध्यक्ष थॉमस बैच ने भरोसा दिलाते हुए कहा था कि कोरोना वायरस के खतरे के बावजूद टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) खेल अपने तय समय पर ही होंगे. थॉमस का बयान काफी अहम माना गया था क्योंकि इससे पहले आईओसी के सीनियर सदस्य डिक पाउंड ने आशंका जाहिर की थी कि अगर मई तक इस बिमारी का खतरा नहीं टला तो ओलंपिक खेल रद्द हो सकता है.

इस खेल के आयोजक भी बार-बार कह चुके हैं कि टोकियो ओलंपिक को टाले जाने का कोई विचार नहीं है. लेकिन मौजूदा हालात कुछ और ही इशारा कर रहे हैं. जापान में कोविड-19 से पीड़ित लोगों की तादात बढ़ती जा रही है. कोरोना वायरस के संक्रमण से जापान के कई नागरिकों की मौत हो चुकी है. अगर बीमारी का खतरा कम नहीं हुआ तो ओलंपिक को लेकर चिंता बढ़ जाएगी.

अगर टोक्यो ओलंपिक रद्द हुआ तो क्या होगा ?

आंकड़ों के मुताबिक, साल 2016 से लेकर अब तक आईओसी ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 के लिए 5.7 अरब डॉलर यानी 40 हजार 470 करोड़ रुपए का रेवेन्यू जुटाया है. इस रकम का 73 फीसदी हिस्सा मीडिया राइट्स बेचने से आया है. बाकी बचे 27 फीसदी हिस्सा स्पॉन्सर्स से मिला है. अगर किसी भी वजह से खेल रद्द होते हैं तो आईओसी को यह रकम लौटानी होगी. ऐसे में आईओसी के कभी नहीं चाहेगी कि उसका इतना बड़ा आर्थिक नुकसान हो. 

जानकारी के मुताबिक, जापान सरकार ने इन खेलों पर अब तक 12.6 अरब डॉलर यानी करीब 90 हजार करोड़ रुपये खर्च कर चुका है. ये खेल अगर टलता है या रद्द हो जाता है तो ऐसे में खिलाड़ियों के करियर पर बुरा असर पड़ेगा, क्योंकि एथलीट इस आयोजन में हिस्सा लेने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं. खिलाड़ी नहीं चाहेंगे कि ये खेल महाकुंभ रद्द हो. 

अगर ओलंपिक तय समय पर हुआ तो क्या होगा ?

टोक्यो ओलिंपिक 24 जुलाई से शुरू होने हैं और जापान में कोरोना वायरस के 293 मामलों की पुष्टि हुई है. जिसमें 6 लोगों की मौत हो चुकी है. वहां के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने 2 मार्च से 12वीं क्लास तक के सभी स्कूल बंद रखने का आदेश जारी कर दिए हैं. ऐसे में पूरे देश में इस बीमारी को लेकर खौफ बरकरार है. 

इस बीमारी के खौफ के बीच अगर ओलंपिक गेम्स आयोजित किए गए तो बेहद मुमकिन है कि कई देश इस आयोजन दूरी बना लेंगे. कई प्रमुख खिलाड़ी ओलंपिक से अपना नाम वापस ले सकते हैं. अगर ऐसा हुआ तो ओलंपिक का ओयोजन फीका पड़ सकता है. इसका सीधा असर विज्ञापनों से होने वाली कमाई पर पड़ेगा. ऐसे में टोक्यो ओलंपिक के स्पॉन्सर्स को भारी आर्थिक नुकसान होगा. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.