राहुल-सचिन के बाद अब विराट कोहली ने बदला वानखेड़े का इतिहास

अब तक यह रिकॉर्ड सिर्फ टीम इंडिया में 'द वॉल' के नाम से मशहूर खिलाड़ी राहुल द्रविड़ के नाम ही दर्ज है, लेकिन इस मैदान पर टॉस जीतने के साथ ही कप्तान विराट कोहली 'मुकद्दर के सिकंदर' बन गए.

राहुल-सचिन के बाद अब विराट कोहली ने बदला वानखेड़े का इतिहास
वानखेड़े के इतिहास में दो बार ही हुआ है ऐसा

नई दिल्ली : कप्तान विराट कोहली के 200वें वनडे मैच में रिकॉर्ड 31वें शतक की बदौलत भारत ने शुरुआती झटकों और धीमी शुरुआत से उबरते हुए न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में आठ विकेट पर 280 रन बनाए. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में न्यूजीलैंड के खिलाफ टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया. बता दें कि विराट कोहली ने जैसे ही इस मैदान पर टॉस जीता उनके नाम एक शानदार रिकॉर्ड दर्ज हो गया. इसके साथ ही 21 साल बाद यह पहला मौका है, जब मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में किसी भारतीय कप्तान ने वनडे में शतक जमाया हो.

VIDEO : अंडर 14 प्लेयर ने लपका विराट कोहली का लाजवाब कैच, अंपायर ने किया SIX का इशारा

अब तक यह रिकॉर्ड सिर्फ टीम इंडिया में 'द वॉल' के नाम से मशहूर खिलाड़ी राहुल द्रविड़ के नाम ही दर्ज है, लेकिन इस मैदान पर टॉस जीतने के साथ ही कप्तान विराट कोहली 'मुकद्दर के सिकंदर' बन गए.

VIDEO : विराट ने 200वें मैच में बनाए दो बड़े रिकॉर्ड, पोंटिंग को पीछे छोड़ा, डिविलयर्स की बराबरी की

यूं को मुंबई का वानखेड़े स्टेडियम भारत के लिए काफी लकी रहा है. 2011 में वर्ल्ड कप फाइनल में भारतीय टीम ने इसी मैदान पर ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी. इसके अलावा भी इस मैदान से भारतीय टीम की कुछ बेहद खास यादें जुड़ी हुई है- खासकर सचिन तेंदुलकर की. सचिन तेंदुलकर और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ियों का यह होम ग्राउंड है और इस मैदान को लेकर खिलाड़ियों में खासा लगाव भी है, लेकिन एक मामले में यह मैदान भारतीय कप्तानों के लिए दुर्भाग्यशाली ही रहा है. 

VIDEO : वानखेड़े में दर्शकों ने कोहली... कोहली... जप कर किया कप्तान का 'विराट' स्वागत

बता दें कि मुंबई के इस मैदान पर वनडे मुकाबले में टीम इंडिया के कप्तान टॉस के मामले में 'मुकद्दर का सिंकदर' नहीं बन सके हैं. पिछले 20 साल में वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए मुकाबलों में केवल दो बार भारतीय कप्तान ने वनडे मुकाबले में टॉस जीता है. 

रविवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया. उनसे पहले 28 नवंबर 2005 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे में भारतीय टीम के तत्कालीन कप्तान राहुल द्रविड़ ने टॉस जीता था और पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया था. 

भारतीय गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन की वजह से अफ्रीका टीम निर्धारित 50 ओवर में छह विकेट खोकर 221 रन ही बना सकी थी. जवाब में भारतीय टीम ने 47.3 ओवर में पांच विकेट के नुकसान पर लक्ष्य हासिल कर लिया. राहुल द्रविड़ ने 78 रन की नाबाद पारी खेली थी. युवराज सिंह ने 49 और सचिन तेंदुलकर ने 30 रन बनाए थे.

सचिन तेंदुलकर बतौर कप्तान ने 21 साल पहले जड़ा था शतक 
विराट के पहले उनके आदर्श सचिन तेंदुलकर ने 14 दिसंबर 1996 को मुंबई में खेले गए वनडे मुकाबले में बतौर कप्तान शतक जमाया था. उस वक्त विराट कोहली की उम्र महज 8 साल थी. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए इस मुकाबले में सचिन तेंदुलकर के 114 रनों की पारी की बदौलत भारत ने छह विकेट पर 267 रन बनाए थे. सचिन ने अपनी शतकीय पारी में 126 गेंदों का सामना करते हुए 14 चौके जमाए थे. 54 रन के साथ अजय जडेजा भारतीय पारी के दूसरे टॉप स्कोरर रहे थे.

ऐसा रहा भारतीय पारी का रोमांच 
कप्तान विराट कोहली (121) की शतकीय पारी के दम पर भारतीय क्रिकेट टीम ने रविवार को वानखेड़े स्टेडियम में जारी पहले वनडे मैच में न्यूजीलैंड को 281 रनों का लक्ष्य दिया है. टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने अपने करियर का 200वां वनडे मैच खेल रहे कोहली के शानदार प्रदर्शन के दम पर निर्धारित 50 ओवरों में आठ विकेट के नुकसान पर 280 रन बनाए. 

अपनी पारी में कोहली ने 125 गेंदें खेलीं और नौ चौके और दो छक्के लगाए. उन्होंने अपने करियर का 31वां वनडे शतक पूरा किया. कप्तान के अलावा, इस पारी में दिनेश कार्तिक ने 37 रनों का योगदान दिया. इसके अलावा, टीम का कोई भी बल्लेबाज ज्यादा देर तक मैदान पर नहीं टिक पाया. न्यूजीलैंड के लिए ट्रेंट बोल्ट ने सबसे अधिक चार विकेट लिए, वहीं सेंटनर और साउदी को एक-एक सफलता मिली.