close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाक क्रिकेट में पत्नियों के दो किस्से: हफीज ने शतक का श्रेय दिया, शहजाद ने बैन की वजह बताई

पाकिस्तान के अहमद शहजाद का दावा- पत्नी ने कैंसर की दवा दे दी थी, जिसके कारण वे डोप टेस्ट में फेल हो गए. 

पाक क्रिकेट में पत्नियों के दो किस्से: हफीज ने शतक का श्रेय दिया, शहजाद ने बैन की वजह बताई
अहमद शहजाद की यह तस्वीर उनके इंस्टाग्राम पेज से ली गई है. (फोटो:iahmadshahzad)

इस्लामाबाद/दुबई: पाकिस्तान के दो क्रिकेटर मोहम्मद हफीज और अहमद शहजाद दो अलग-अलग कारणों से चर्चा में हैं. हफीज ने टेस्ट क्रिकेट में दो साल बाद वापसी करते हुए शतक जमाया है, जबकि अहमद शहजाद पर डोपिंग के कारण बैन लगा है. दिलचस्प बात यह है कि दोनों ही क्रिकेटरों ने अपने मौजूदा हालात के लिए पत्नियों को ‘श्रेय’दिया है. 

शहजाद का दावा- पत्नी ने दी कैंसर की दवा 
अहमद शहजाद को डोपिंग का दोषी पाए जाने के बाद चार महीने के लिए बैन कर दिया गया है. बैन होने के बाद शहजाद ने कहा है कि वे पत्नी की एक गलती की वजह से डोपिंग में फंस गए. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अहमद शहजाद को पाकिस्तान कप टूर्नामेंट में 3 मई को बलूचिस्तान के लिए मैच खेलना था. मैच के दिन वे सुबह सो कर उठे तो उन्हें चक्कर आया और उनका जी घबरा रहा था. शहजाद ने पत्नी से दवा मांगी. पत्नी ने शहजाद को गलती से ग्रेविनेट की जगह उनकी मां द्वारा ली जाने वाली कैंसर की दवा दे दी. 
 

Ahmed Shehzad
अहमद शहजाद ने यह तस्वीर जून में सोशल मीडिया पर शेयर की थी. (फोटो:iahmadshahzad) 

पीसीबी को सौंपी मां की दवाओं की पर्ची 
अहमद शहजाद ने अपने दावों की पुष्टि के लिए पीसीबी को अपनी मां की दवाओं वाली पर्ची और दूसरे मेडिकल रिकॉर्ड भी दिए हैं. उन्होंने अपना कैरेक्टर सर्टिफिकेट भी पीसीबी को दिया है, जिसमें उनके डोप टेस्टिंग के समय मौजूद रहे फिजियोथेरेपिस्ट, मुख्य कोच मिकी आर्थर, पूर्व कप्तान मिस्बाह-उल-हक और ऑलराउंडर शोएब मलिक ने साइन किए थे.

एशिया कप में नहीं चुने जाने से हताश थे हफीज 
37 साल के मोहम्मद हफीज ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दुबई में खेले जा रहे टेस्ट में 126 रन बनाए. उन्होंने शतकीय पारी के बाद बताया, ‘मैं एशिया कप के लिए टीम में नहीं चुने जाने से बेहद निराश था. यह निराशा, हताशा में बदल रही थी. मैं मानसिक रूप से परेशान था और ऐसे में कोई भी फैसला (संन्यास भी) ले सकता था. लेकिन पत्नी ने मुझे ऐसा करने से रोक दिया.’

शोएब अख्तर ने हफीज को फोन किया 
हफीज ने बताया कि पत्नी से बात करने के बाद वे काफी हद तक निराशा से उबर गए. इसी दौरान उन्हें शोएब अख्तर का फोन आया. उन्होंने भी मुझे निराश होने की सलाह दी.’ हफीज ने वापसी टेस्ट में ओपनर इमाम उल हक के साथ पहले विकेट के लिए 205 रन की साझेदारी की.