close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अजिंक्य रहाणे को लगा जोर का झटका, चोट के कारण मुश्ताक अली ट्रॉफी से बाहर

मुंबई टीम के चयनकर्ता अजित अगरकर ने कहा, ‘अजिंक्य रहाणे ने ग्रुप स्टेज में खेला लेकिन अब उनको रिकवरी के लिए आराम की जरूरत है.’ 

अजिंक्य रहाणे को लगा जोर का झटका, चोट के कारण मुश्ताक अली ट्रॉफी से बाहर
अजिंक्य रहाणे भारत के लिए 56 टेस्ट, 90 वनडे और 20 टी20 मैच खेल चुके हैं. (फोटो: PTI)

मुंबई: सैयद मुश्ताक अली टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट में भाग ले रही मुंबई की टीम को उस समय एक बड़ा झटका लगा जब उसके कप्तान अजिंक्य रहाणे टूर्नामेंट के सुपर लीग मैचों के लिए अनफिट घोषित करार दिए गए. मुंबई टीम के चयनकर्ता प्रमुख अजित अगरकर ने कहा कि रहाणे पूरे ग्रुप चरण से बाहर हो गए हैं और उन्हें आराम की जरूरत है. अजिंक्य रहाणे भारत के लिए 56 टेस्ट, 90 वनडे और 20 टी20 मैच खेल चुके हैं. 

क्रिकइंफो की रिपोर्ट के अनुसार, मुंबई टीम के चयनकर्ता अजित अगरकर ने कहा, ‘रहाणे ने ग्रुप स्टेज में खेला, लेकिन अब उनको रिकवरी के लिए आराम की जरूरत है. लीग फेज के दौरान भी वे चोट से जूझ रहे थे. जब हम थोड़ी मुश्किल में थे तो उन्होंने टीम के साथ बने रहने का फैसला लिया. लेकिन वे सुपर लीग के लिए 100 फीसदी फिट नहीं हैं.’

यह भी पढ़ें: टीम इंडिया; 500वीं जीत पर कितना भी इतरा लें, हार के मामले में भी है शर्मनाक रिकॉर्ड

मुंबई की टीम छह मैचों में से पांच मैच जीतकर टूर्नामेंट के ग्रुप-सी में पहले नंबर पर है. हालांकि रहाणे ने इन मैचों में 9.66 की औसत से महज 58 रन बनाए हैं. इससे यह चर्चा भी शुरू हो गई है कि कहीं ऐसा तो नहीं कि रहाणे को खराब फॉर्म के चलते तो टीम से ड्रॉप करने के लिए चोट का बहाना बनाया गया है. 

अजिंक्य रहाणे इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में राजस्थान रॉयल्स के कप्तान हैं. अब राजस्थान की टीम भी उनकी फिटनेस पर नजर बनाए हुए है. राजस्थान को आईपीएल में अपना पहला मैच किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ 25 मार्च को खेलना है. 

अजिंक्य रहाणे ने हाल ही में कहा, ‘मैं बल्लेबाज के तौर पर आक्रामक हूं, लेकिन व्यवहार से कम बोलने वाला व्यक्ति हूं. मैं अधिक बात करना पसंद नहीं करता. इसकी बजाय मैं अपने बल्ले को बोलने देता हूं, लेकिन कई बार सच कहना जरूरी हो जाता है. मेरा मानना है कि टीम सबसे पहले है और मैंने हमेशा टीम मैनेजमेंट, सिलेक्टर्स के फैसले का सम्मान किया है और ऐसा करता रहूंगा. लेकिन अंत में यह जरूरी है कि मैं जो प्रयास कर रहा हूं उसे स्वीकार किया जाए. मुझे पर्याप्त मौका मिले. ’

(इनपुुुट: आईएएनएस)