रायडु को अंपायर से उलझने पर मिली कड़ी सजा, बीसीसीआई ने किया निलंबित

अंबाती रायडु को कर्नाटक के खिलाफ सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी मैच के दौरान बीसीसीआई आचार संहिता का उल्लंघन का करने पर दो मैचों के लिये निलंबित किया गया है.

रायडु को अंपायर से उलझने पर मिली कड़ी सजा, बीसीसीआई ने किया निलंबित
बीसीसीआई संहिता का उल्लंघन करने पर रायडु पर दो मैच का प्रतिबंध

नयी दिल्ली: हैदराबाद के कप्तान अंबाती रायुडु को 11 जनवरी को कर्नाटक के खिलाफ सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी मैच के दौरान बीसीसीआई आचार संहिता का उल्लंघन का करने पर दो मैचों के लिये निलंबित किया गया है. बीसीसीआई ने अपनी प्रेस रिलीज में कहा, ‘‘रायडु आगामी विजय हजारे ट्रॉफी में हैदराबाद के पहले दो मैचों में भाग नहीं ले पाएंगे.’’

धोनी जितने कूल और कोहली जितने एग्रिसेव नहीं है पृथ्वी शॉ, पढ़ें दिलचस्प वजह

इसमें कहा गया है, ‘‘मैंदानी अंपायर अभिजीत देशमुख, उल्हास वितालराव गंधे और तीसरे अंपायर अनिल धांडेकर ने आरोप लगाये थे. बीसीसीआई इस अप्रिय घटना में हैदराबादी टीम मैनेजर की भूमिका की भी जांच कर रहा है.’’ 

मैच के दौरान हैदराबाद के डीप मिडविकेट पर खड़े फील्डर मेहदी हसन का पांव गेंद रोकते समय सीमा रेखा को छू कर गया था लेकिन मैदानी अंपायर ने तीसरे अंपायर की मदद नहीं ली और करूण नायर को चौका देने के बजाय दो रन दिये. कर्नाटक ने पांच विकेट पर 203 रन बनाये. स्थिति तब बिगड़ी जब कर्नाटक के स्कोर में दो रन जोड़े गये और आखिर में हैदराबाद इसी अंतर से मैच हार गया था. हैदराबाद ने 20 ओवर में नौ विकेट पर 203 रन बनाये थे. रायुडु ने मैच के बाद अंपायरों के सामने यह मसला उठाया जिससे दूसरे मैच के शुरू होने में देरी हुई.

INDvSA: डुमिनी ने माना, वनडे में भारत से मिलेगी कड़ी चुनौती

मैच के बाद रायडु ने कहा, हम चाहते थे कि सुपर ओवर हो और मैंने इसी वजह से अंपायर से बात की. मैं यह नहीं चाहता था कि हमारी वजह से दूसरा मैच रुके. हमारा मैच खत्म नहीं हुआ, इस वजह हम चाहते थे कि सुपर ओवर हो. बता दें कि रायडु पर प्रतिबंध लगाने के बाद बीसीसीआई हैदराबाद टीम मैनेजर की भूमिका की भी जांच कर रही है.