close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ASHES 2019: टेस्ट क्रिकेट में पहली बार खिलाड़ियों की जर्सी पर होंगे उनके नाम और नंबर

एशेज सीरीज से टेस्ट क्रिकेट में एक बदलाव दिखेगा. अब खिलाड़ियों की सफेद जर्सी के पीछे उनका नाम और नंबर दिखाई देंगे.

ASHES 2019: टेस्ट क्रिकेट में पहली बार खिलाड़ियों की जर्सी पर होंगे उनके नाम और नंबर
एशेज सीरीज से कुछ बदलाव देखने को मिलेंगे. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: विश्व कप 2019 ( World Cup 2019) के बाद अब इंग्लैंड में एशेज (Ashes 2019) की तैयारियां हो रही हैं. एक अगस्त से शुरू हो रही इस सीरीज से टेस्ट क्रिकेट का खुमार भी वापसी पर है. एशेज में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाड़ी सफेद पोशाक में तो नजर आएंगे ही लेकिन इस सीरीज में उनकी पीठ पर उनका नाम और जर्सी नबंर भी होगा. वनडे और टी-20 में काफी पहले समय से खिलाड़ियों की जर्सी के पीछे उनका नाम और नंबर दिखाई दे रहा है, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में यह इंतजार काफी लंबा हो गया था.

पहले से ही चल रही थी तैयारी
इस साल की शुरुआत में आई रिपोर्ट्स में कहा गया था कि इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाली एशेज सीरीज टेस्ट क्रिकेट की किट में आधुनिकता लाएगी. टेस्ट क्रिकेट में हो रहे इस परिवर्तन के लिए क्रिकेट फैंस बंटे हुए नजर आ रहे हैं. कुछ को इस पर कोई ऐतराज नहीं है तो कुछ को यह बेकार की कवायद लग रही है. किसी को जर्सी पर खिलाड़ियों के नाम दिखाने पर तो ऐतराज नहीं, लेकिन उनके नंबर दिखाने की बात समझ में नहीं आ रही है. एक फैन का मानना है की इससे खिलाड़ियों को दूर से पहचानने में आसानी होगी, खासकर उन लोगों को जो ठीक से देख नहीं पाते हैं. 

यह भी पढ़ें: ENG vs IRE: एंडरसन के पास नंबर वन बॉलर बनने का मौका, पैट कमिंस से जा सकते है आगे

क्या है जो रूट की जर्सी का नबंर 
इंग्लैंड क्रिकेट के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने इंग्लैंड के कप्तान जो रूट के जर्सी नंबर की पुष्टि की है. इस ट्वीट के कैप्शन में कहा गया है, “टेस्ट शर्ट्स के पीछे नाम और नंबर”. इसके साथ साझा की गई जो रूट की तस्वीर में 66 नंबर दिखाई दे रहा है.  क्रिकेट जगत में इस बदलाव को लेकर कितना उत्साह है यह तो बाद में पता चलेगा. लेकिन काफी समय से इस तरह के बदलाव की उम्मीद की जा रही थी कई लोगों को मानना है कि टेस्ट क्रिकेट में इस तरह के परिवर्तन करने से बचा जाना चाहिए. टेस्ट क्रिकेट की पवित्रता और उसका अपना स्वरूप बरकरार रखने वाले पैरोकारों की संख्या भी कम नहीं हैं. 

इंग्लैंड को मिल सकता है यह फायदा
इस बार इंग्लैंड को घरेलू टीम होने के साथ-साथ विश्व कप जीतने का फायदा भी मिलने की उम्मीद है. पिछली बार इंग्लैंड को ऑस्ट्रेलिया में 0-4 से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था. उस समय बेन स्टोक्स के एशेज में न चुने जाने से इंग्लैंड को काफी नुकसान हुआ था. इस बार भी इंग्लैंड के लिए यह सीरीज आसान नहीं होने वाली है. वहीं ऑस्ट्रेलिया टीम भी विश्व कप इंग्लैंड के हाथों सेमीफाइनल में हुई हार का बदला लेने के लिए बेताब है. 

लागू हो सकता यह नया नियम भी
सीरीज में एक नए नियम को लाया जा सकता है. यह नियम सिर में चोट लगने पर उस खिलाड़ी के स्थान पर सबस्टीट्यूट खिलाड़ी को मंजूरी देने का है. उम्मीद है कि इस नियम को मंजूरी मिल जाएगी और इसे तत्काल प्रभाव से लागू किया जाएगा ताकि विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के तहत खेले जाने वाले सभी मैचों में इस नियम का इस्तेमाल किया जा सके और खिलाड़ियों को सुरक्षा मिल सके.