close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Ashes: आयरलैंड ने बढ़ाई इंग्लैंड की चिंता, अनचाहे नंबर-3 पर बैटिंग कर सकते हैं रूट

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एशेज सीरीज का पहला टेस्ट मैच एक अगस्त से खेला जाना है. 

Ashes: आयरलैंड ने बढ़ाई इंग्लैंड की चिंता, अनचाहे नंबर-3 पर बैटिंग कर सकते हैं रूट
जो रूट ने अब तक 81 टेस्ट मैच खेले हैं. उनका औसत 49.03 है और वे 16 शतक भी लगा चुके हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दुनिया को क्रिकेट देने वाला इंग्लैंड विश्व चैंपियन बनने के बाद एशेज (Ashes) की तैयारी कर रहा है. उसके और ऑस्ट्रेलिया के बीच इस सीरीज (Ashes series) का पहला मैच एक अगस्त से होना है. मेजबान होने और अपने खिलाड़ियों की फॉर्म की वजह से कुछ दिन पहले तक इंग्लैंड को सीरीज में जीत का दावेदार माना जा रहा था. लेकिन आयरलैंड ने उसे 85 रन पर ढेरकर समीकरण बदल दिया है. अब इंग्लैंड अपने बैटिंग ऑर्डर, खासकर टॉप-3 को लेकर चिंतित है. टीम प्रबंधन और प्रशंसक इस समस्या को दूर करने के लिए जो रूट (Joe Root) की तरफ देख रहे हैं, जो टीम के कप्तान भी हैं. 

जो रूट ना सिर्फ इंग्लैंड के कप्तान हैं, बल्कि वे विराट कोहली, स्टीव स्मिथ और केन विलियम्सन के साथ फै‘ब फोर’ में भी गिने जाते हैं. इस ‘फैब फोर’ के बारे में कहा जाता है कि यह 2010 के दशक के सर्वश्रेष्ठ चार बल्लेबाज हैं. इनके बीच यह रेस चल रही है कि सबसे बेहतर कौन है. स्टीव स्मिथ को छोड़ दें तो बाकी तीनों अपनी-अपनी टीमों के कप्तान भी हैं. रूट सिर्फ टेस्ट टीम के कप्तान हैं. विराट और विलियम्सन तीनों फॉर्मेट के कप्तान हैं. जबकि, स्मिथ ने बॉल टैम्परिंग में पकड़े जाने के बाद इस्तीफा दे दिया था. 

बहरहाल, यहां पर बात इंग्लैंड क्रिकेट टीम की हो रही है, जिसे अगले महीने की एक तारीख से ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट सीरीज खेलनी है. 14 जुलाई को विश्व चैंपियन बनने के बाद इंग्लैंड का यह दूसरा टेस्ट मैच होगा. उसने पिछले सप्ताह ही आयरलैंड से टेस्ट मैच खेला है. एक साल पहले टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाली आयरिश टीम ने इंग्लैंड को पहली पारी में 85 रन पर ढेर कर दिया था. हालांकि, इंग्लैंड की टीम ने आखिर में यह मैच जीत लिया, लेकिन इससे पहले उसकी बल्लेबाजी की कलई जरूर खुल गई. 

दरअसल, इंग्लैंड की कमजोरी नंबर-3 है. उसने पिछले कुछ सालों में इस नंबर पर जॉनी बेयरस्टो, जो डेनली, कीटन जेनिंग्स, मोईन अली समेत कई खिलाड़ियों को मौका दिया है. लेकिन कोई भी खिलाड़ी इस नंबर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया. कप्तान जो रूट भी इस नंबर पर खेलते रहे हैं, लेकिन उनका नंबर-4 और नंबर-5 पर ज्याद अच्छा प्रदर्शन है. उन्होंने नंबर-3 पर दो, नंबर-4 पर छह और नंबर-5 पर सात शतक लगा चुके हैं. 

जो रूट कह भी चुके हैं कि उन्हें नंबर-3 की बजाय, नंबर-4 और नंबर-5 पर खेलना ज्यादा पसंद है. वेबसाइट क्रिकइंफो के मुताबिक कोच ट्रेवर बेलिस (Trevor Bayliss) भी कह चुके हैं कि उनकी टीम की ताकत नंबर-4 से नंबर-8 तक की बैटिंग है, जिसे वे नहीं छेड़ना चाहते. बेलिस ने यह भी कहा, ‘जो रूट जानते हैं कि मैं इस बारे में क्या सोचता हूं. ये मेरे विचार (जो रूट को नंबर-3 पर बैटिंग कराने का) हैं. लेकिन रूट कप्तान हैं और आखिरी फैसला उन्हीं का होगा.’ 

बहरहाल, आयरलैंड के खिलाफ टीम के टॉप-3 के फेल होने के बाद टीम मैनेजमेंट नंबर-3 की पोजीशन के बारे में फिर विचार कर रहा है. इसके लिए सबसे उपयुक्त और भरोसेमंद नाम कप्तान जो रूट का ही है. वे इस नंबर पर 40 की औसत से रन बना चुके हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि जब एशेज सीरीज के पहले टेस्ट में इंग्लैंड की टीम बैटिंग करने उतरेगी तो जो रूट उस नंबर-3 में बैटिंग करते नजर आ सकते हैं, जो उन्हें ज्यादा पसंद नहीं है.