close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

क्या फिर खुल सकता है शास्त्री की नियुक्ति का मामला, गांगुली ने क्यों किया उनका बचाव

ऐसी संभावनाएं जताई जा रही हैं कि अगर सीएसी का गठन अवैध घोषित होता है तो टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री की कुर्सी जा सकती है. 

क्या फिर खुल सकता है शास्त्री की नियुक्ति का मामला, गांगुली ने क्यों किया उनका बचाव
सौरव गांगुली और रवि शास्त्री. (फोटो: IANS/Reuters)

कोलकाता: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के भावी अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री से रिश्ते भले ही ठीक न हों, लेकिन उन्होंने कहा है कि कोच को दोबारा नियुक्ति की जरूरत नहीं है. शास्त्री को कोच चुनने वाली एड-हॉक क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) को बोर्ड के लोकपाल डीके. जैन ने हितों के टकराव में घसीटा था. ऐसी संभावनाएं जताई जा रही हैं कि अगर सीएसी का गठन अवैध घोषित होता है तो शास्त्री की कुर्सी जा सकती है. 

सौरव गांगुली ने इस मसले पर साफ कह दिया है कि ऐसा करने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि इससे रवि शास्त्री (Ravi Shastri) के चयन में कुछ परेशानी आएगी. मैं हालांकि आश्वस्त नहीं हूं. जहां तक कि हमने तब भी कोच का चयन किया जब हितों के टकराव का मुद्दा था.’

यह भी पढ़ें: INDvsSA: दक्षिण अफ्रीका चोट से परेशान, टीम इंडिया में भी बदलाव तय, ये हो सकती है प्लेइंग XI 

सौरव गांगुली से जब पूछा गया कि क्या उन्होंने बोर्ड का अध्यक्ष तय होने के बाद शास्त्री से बात की है तो गांगुली ने हंसते हुए कहा, ‘क्यों? अब उन्होंने क्या किया.’ अगर लोकपाल सीएसी को हितों के टकराव का दोषी मानते हैं तो शास्त्री को दोबारा नियुक्त करने की जरूरत है या नहीं?

इसी सवाल पर प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष विनोद राय ने टिप्पणी करने से मना कर दिया था. विनोद राय ने कहा था, ‘पहली बात तो यह काल्पनिक सवाल है. दूसरी बात, मेरा लोकपाल के फैसले से पहले कुछ भी बोलना गलत है.’

यह भी पढ़ें: INDvSA: रांची में दक्षिण अफ्रीका को किस्मत की तलाश, कप्तान डू प्लेसिस नहीं करेंगे टॉस 

रवि शास्त्री को कपिल देव की अध्यक्षता वाली एड-हॉक क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने दोबारा कोच चुना था. शांता रंगास्वामी और अंशुमन गायकवाड़ भी इस समिति के सदस्य थे. रवि शास्त्री का करार 2021 में होने वाले टी20 विश्व कप तक है. 

बता दें कि रवि शास्त्री के साथ कोच पद की दौड़ में न्यूजीलैंड के पूर्व कोच माइक हेसन, श्रीलंका के पूर्व कोच टॉम मूडी, वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के पूर्व कोच फिल सिमंस, भारत के पूर्व फील्डिंग कोच रोबिन सिंह और भारत के पूर्व मैनेजर लालचंद राजपूत भी शामिल थे. कपिल की अध्यक्षता वाली सीएसी ने नया कोच चुनने की बजाय शास्त्री का कार्यकाल बढ़ाने का निर्णय लिया था.