BCCI: चीफ सिलेक्टर MSK प्रसाद पद छोड़ने से पहले निराश, कहा- इस बात का रह गया पछतावा

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने साफ कर दिया है कि एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली चयन समिति का कार्यकाल खत्म हो गया है. 

BCCI: चीफ सिलेक्टर MSK प्रसाद पद छोड़ने से पहले निराश, कहा- इस बात का रह गया पछतावा

नई दिल्ली: बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly)  ने वार्षिक आम बैठक (एजीएम) में कहा था कि एमएसके प्रसाद (MSK Prasad) की अध्यक्षता वाली सीनियर चयन समिति का कार्यकाल खत्म हो गया है. अब भविष्य के लिए नई चयन समिति चुनी जाएगी. एमएसके प्रसाद ने अब इस पर अपनी चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने कहा कि समिति का चेयरमैन रहते भारतीय टीम का दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाना उनके लिए हमेशा पछतावा का विषय रहेगा. 

एमएसके प्रसाद ने कहा, ‘मुझे लगता है कि तीन साल से भारतीय टीम का टेस्ट क्रिकेट में नंबर-1 बने रहना मुझे सबसे ज्यादा संतुष्टि देता है. हमने न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में वनडे सीरीज जीती. ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतना निश्चित रूप से सबसे अच्छी बात थी.’ एमएसके प्रसाद और गगन खोड़ा 2015 में चयनकर्ता नियुक्त किए गए थे. जतिन परांजपे, संदीप सिंह और देवांग गांधी 2016 में उनके साथ जुड़े थे. 

यह भी पढ़ें: INDvsWI: वेस्टइंडीज से पहला टी20 मैच कल, क्लीन स्वीप की हैट्रिक लगाने उतरेगी टीम इंडिया 

एमएसके प्रसाद ने इंडिया टुडे से कहा, ‘विदेशी में मिली हार का मुझे बहुत अफसोस रहेगा. इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में जो कुछ हुआ, मैं उसके उल्टा देखना पसंद करता. हमारी टीम में सब कुछ था. जिस तरह से टीम लड़ी, उसे देखते हुए हमारी टीम विदेशों में जीत की हकदार थी.’

एमएसके प्रसाद ने आगे कहा कि चयनकर्ता प्रमुख रहते उन्होंने कभी दबाव महसूस नहीं किया. उन्होंने कहा, ‘मुझे कभी दबाव महसूस नहीं हुआ. अगर आपकी सोच स्पष्ट नहीं है तो फिर आप केवल असहज महसूस करेंगे. हम बहुत स्पष्ट थे, खासकर खिलाड़ियों का चयन करते समय.’

यह भी पढ़ें: INDvsWI: ऋषभ पंत के सवाल पर बोले कोहली- जो रोहित ने कहा वही बात सही है 

पूर्व चयनकर्ता प्रमुख ने कहा, ‘आपको अपनी योजना पर विश्वास करना चाहिए और इसे सही से लागू करना चाहिए. हमने साल में लगभग 220-240 दिनों तक दौरे किए. पिछले दो वर्षों के दौरान कुछ खिलाड़ियों को उनके प्रदर्शन में निरंतरता के आधार पर दोबारा टीम में चुना. हमने उन्हें भारत-ए के लिए खेलाकर तैयार किया. हमने उनका समर्थन किया. आज हमारे पास मुख्य स्पिन गेंदबाजों के अलावा छह गुणवत्ता वाले स्पिनर हैं. हमें अपने पांच मुख्य गेंदबाजों के अलावा चार तेज गेंदबाज भी मिले हैं. वे भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए काफी काफी अच्छे हैं.’