गांगुली ने बताया, भारतीय क्रिकेट के लिए कितनी असरदार होगी डे-नाइट क्रिकेट की शुरुआत

Day-Night Test: बीसीसीआई अध्यक्ष का मानना है कि टीम इंडिया के डे-नाइट टेस्ट खेलने की शुरुआत होने से खेल के विकास में बड़ी मदद मिलेगी. 

गांगुली ने बताया, भारतीय क्रिकेट के लिए कितनी असरदार होगी डे-नाइट क्रिकेट की शुरुआत
सौरव गांगुली शुरू से ही डे-नाइट टेस्ट क्रिकेट के पक्ष में रहे थे. (फोटो: IANS)

कोलकाता: अगले महीने टीम इंडिया बांग्लादेश के साथ (India vs Bangladesh) पहला डे-नाइट टेस्ट मैच (Day-Night Test) खेलेगी. इस बारे में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के नवनिर्वाचित अध्यक्ष सौरभ गांगुली (Sourav Ganguly) ने  इस मैच की अहमियत के बारे में खास बयान दिया है. उनका मानना है कि दिन-रात का टेस्ट मैच खेल के सबसे बड़े प्रारूप को उसकी खोई हुई पहचान दिलाने में बड़ी भूमिका निभाएगा. 

बीसीबी भी दे चुका है इजाजत 
भारत को 22 नवंबर से कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डन्स स्टेडियम में बांग्लादेश के साथ अपना पहला दिन-रात का टेस्ट मैच खेलना है. बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने मंगलवार को ही भारत के साथ कोलकाता में पहले दिन-रात के टेस्ट मैच को हरी झंडी दी. गांगुली ने कहा, "दिन-रात का टेस्ट मैच एक बहुत बड़ा कदम है और हमारा मानना है कि यह दर्शकों और युवा बच्चों को स्टेडियम तक लेकर आएगा. मैं बेहद गर्व महसूस कर रहा हूं कि ईडन गार्डन भारत में होने वाले पहले दिन-रात के टेस्ट मैच की मेजबानी करेगा."

यह भी पढ़ें: Day-Night Test: दादा का आदेश, 10 दिन में मिल जाए पिंक गेंदें, यह है जल्दी की वजह

बीसीबी को कहा शुक्रिया
उन्होंने कहा, "मैं बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष नज्मुल हसन और उनकी टीम को इतने कम समय में हमारे अनुरोध को स्वीकार करने के लिए धन्यवाद देता हूं. मैं भारत के कप्तान विराट कोहली को भी उनके सहयोग के लिए धन्यवाद देता हूं."

क्रिकेट को आगे ले जाएगा यह कदम
गांगुली ने कहा कि यह भारतीय क्रिकेट में एक विशेष चीज की शुरुआत है.  गांगुली ने कहा, "यह भारतीय क्रिकेट में एक विशेष चीज की शुरुआत है. देश की क्रिकेट को आगे ले जाना ही नवनिर्वाचित पदाधिकारियों और एपेक्स काउंसिल के सदस्यों की प्राथमिकता है. भारत के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के वर्तमान अध्यक्ष के रूप में मेरे लिए टेस्ट क्रिकेट की प्राथमिकता सबसे अधिक है और हम इस प्रारूप को वापस लोकप्रिय बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे."

युद्धस्तर पर जारी है तैयारी
गौरतलब है कि इस मैच के लिए बीसीसीआई युद्ध स्तर पर तैयारी कर रहा है. इस मैच के सफल आयोजन के लिए सबसे बड़ी चुनौती गुलाबी गेंदों की व्यवस्था करना है. गांगुली ने निर्देश दिए हैं के दस दिन के अंदर पर्याप्त संख्या में गुलाबी गेंदें मुहैया कराई जाएं जिसके की दोनों टीमें मैच से पहले अच्छे से अभ्यास कर सकें. दोनों ही टीमें पहली बार डे-नाइट टेस्ट खेल रही हैं. 
(इनपुट आईएएनएस)