close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

B'day Special: अपने खेल के साथ कॉमेट्री के लिए भी मशहूर हुआ बेमिसाल आवाज का यह जादूगर

अपने बेहतरीन क्रिकेट करियर और कॉमेंट्री के लिए मशहूर टोनी ग्रैग के दुनिया भर में फैंस थे. उन्होंने शरजाह में सचिन तेंदुलकर की पारी को डेजर्ट स्ट्रॉम कहा था.

B'day Special: अपने खेल के साथ कॉमेट्री के लिए भी मशहूर हुआ बेमिसाल आवाज का यह जादूगर
टोनी ग्रैग इंग्लैंड के मशहूर क्रिकेटरों में से एक रहे थे. (फोटो : IANS)

नई दिल्ली: क्रिकेट की दुनिया पिछले कुछ दशकों से तेजी से बदली है. लेकिन क्रिकेट फैंस के लिए यह दुनिया कितनी भी बदली हो, बहुत से पुराने क्रिकेटर्स और मैच यादगार रह जाते हैं. इसके साथ ही क्रिकेट में कई कॉमेंटेटर्स भी फैंस के दिल में गहरी छाप छोड़ देते हैं. ऐसे ही एक खिलाड़ी रहे हैं टोनी ग्रेग (Tony Greig) जो क्रिकेट की दुनिया में अपने खेल के साथ-साथ अपनी बेमिसाल कॉमेंट्री के लिए आज भी याद किए जाते हैं. इंग्लैंड के इस दिग्गज क्रिकेटर और मशहूर कॉमेंटेटर का रविवार 6 अक्टूबर को जन्मदिन है. 

शानदार करियर रहा था टोनी का
एंथोनि विलियम ग्रेग का जन्म दक्षिण अफ्रीका के क्वींसटाउन में 6 अक्टूबर 1946 में हुआ था. उनके पिता स्कॉटलैंड के थे. इसी वजह से उन्हें इंग्लैंड की ओर से खेलने का मौका मिला. टोनी ने 58 टेस्ट मैचों में 3599 रन बनाए और 141 विकेट लिए. वे केवल 22 वनडे खेल सके जिसमें उन्होंने 269 रन बनाते हुए 19 विकेट लिए. ग्रेग की कप्तानी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन इंग्लैंड ने 1976-77 के भारत दौरे पर किया था, जिसमें भारत में 15 साल में पहली बार इंग्लैंड ने शानदार जीत दर्ज की. टोनी की टीम ने पहले तीन टेस्ट बड़े अंतर से जीते.

यह भी पढ़ें: पाक में श्रीलंकाई टीम को कड़ी सुरक्षा, सेना ने T20 मैच से एक दिन पहले चलाया सर्च ऑपरेशन

कैरी पैकर सीरीज में की थी मदद
इंग्लैंड के अंतरराष्ट्रीय हरफनमौला ग्रेग ने कैरी पैकर को विश्व सीरिज क्रिकेट शुरू करने में मदद की थी जिसमें इंग्लैंड, वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के कई क्रिकेटरों ने भाग लिया था. इस कारण उन्हें इंग्लैंड की कप्तानी गंवानी पड़ी. कहा जाता है कि इस पैकर सर्कस का मूल विचार टोनी का ही था.

सचिन की पारी को कहा था डेजर्ट स्ट्रॉम
टोनी 1977 में सक्रिय क्रिकेट से रिटायर होने के बाद सफल कमेंटेटर बने. साल 1998 में शरजाह में भारत और ऑस्ट्रेलिया में हुए मैच में सचिन के साथ साथ टोनी की कॉमेंट्री के लिए भी याद किया जाता है. इस मैच में भारत के  सचिन तेंदुलकर ने चमत्कारिक पारी खेलते हुए टीम इंडिया को हार के बावजूद नेट रनरेट के आधार पर कोकाकोला कप के फाइनल में जगह दिलाई थी. उस मैच के दो दिन बाद सचिन ने फिर आतिशी पारी से टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत दिलाई थी. इन मैचों में टोनी ने सचिन के छक्कों की अपनी कॉमेंट्री में तारीफ की थी इस दौरान टोनी ने सचिन की पारी को डेजर्ट स्ट्रॉर्म कहा था.

66 की उम्र में हुआ निधन
टोनी का लंबे समय तक कैंसर से जूझने के बाद 29 दिसंबर 2012  को निधन हो गया था. वे 66 वर्ष के थे. उन्हें उसी साल अक्टूबर में फेफड़ों का कैंसर होने का पता चला था जबकि मई से उनका दमे का इलाज चल रहा था.