B'day Special: IPL ने पहुंचाया जिस बुलंदी पर, टीम इंडिया में नहीं मिली वह पहचान

IPL: युसुफ पठान ने आईपीएल में लगातार शानदार प्रदर्शन किया और वे गेंदबाजों के लिए हमेशा ही खौफ बने रहे, लेकिन टीम इंडिया में उन्हें उस तरह की पहचान नहीं मिल सकी. 

B'day Special: IPL ने पहुंचाया जिस बुलंदी पर, टीम इंडिया में नहीं मिली वह पहचान
युसुफ पठान के नाम का खौफ आज भी आईपीएल के गेंदबाजों में रहता है. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: टीम इंडिया में युसुफ पठान (Yusuf Pathan) का नाम भले ही प्रमुख स्टार खिलाड़ी के तौर पर नहीं लिया जाता हो, लेकिन इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में युसुफ लंबे समय तक ऐसे बल्लेबाज रहे जिनका सिक्का खूब चला. युसुफ ने आईपीएल के लगभग हर सीजन में गेंदबाजों में अपना खौफ बनाए रखने में कामयाबी हासिल की. 2008 के अपने पहले आईपीएल में ही युसुफ राजस्थान रायल्स की ओर ऐसे छाए कि खिलाड़ियों से लेकर टीम फ्रेंचाइजी मालिक तक उन्हें कभी नजरअंदाज नहीं कर सके. युसुफ रविवार को 37 साल के हो रहे हैं. 

टी20 विश्व कप में खेला था पहली टी20 इंटरनेशनल
युसुफ का क्रिकेट करियर देर से परवान चढ़ा. उनके छोटे भाई इरफान पठान ने जल्दी ही टीम इंडिया में जगह बना ली, लेकिन युसुफ को ख्याति मिली 2004-05 के बाद जब बड़ौदा की ओर से उन्होंने शानदार प्रदर्शन कर  सबका ध्यान खींचा. इसके बाद उनके 2006-07 के रणजी प्रदर्शन के दम पर उन्हें टी20 इंटरनेशनल मैच खेलने का मौका मिला. और सितंबर 2007 में हुए पहले टी20 विश्व कप के फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने टी20 इंटरनेशनल में डेब्यू किया. इस मैच में उन्होंने ज्यादा रन नहीं बनाए लेकिन 187 के स्ट्राइक रेट से खुद के बेखौफ खिलाड़ी होने का इशारा जरूर कर दिया. 

यह भी पढ़ें: IND vs BAN Indore test: बांग्लादेश रही मुसीबत में, पर किस्तम ने खूब साथ दिया रहीम का

आईपीएल ने दी युसुफ को वह शोहरत
इसके बाद इंडियन प्रीमियर लीग ने युसुफ को वह शोहरत दी जिसके मिलने के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. 435 रन के साथ उन्होंने पहले सीजन के आईपीएल में 179 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए और चार हाफ सेंचुरी ठोकीं जिनमें सीजन की सबसे तेज पहली फिफ्टी भी शामिल थी जो उन्होंने केवल 21 गेंदों में लगाई. इसके बाद उन्हें वनडे टीम इंडिया में भी जगह मिली लेकिन वे लगातार प्रदर्शन करने में सफल नहीं रहे. 2010 के दिलीप ट्रॉफी फाइनल में उन्होंने 190 गेंदों में तूफानी दोहरा शतक जड़ कर तहलका मचा दिया. 

123 रन की वह तूफानी पारी
वऩडे में युसुफ की न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली गई पारी यादगार रही जिसमें उन्होंने 316 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 96 गेंदों में 123 रन की नाबाद पारी खेल कर टीम इंडिया को जीत दिलाई. इस पारी में उन्होंने 7 चौके और 7 छक्के लगाए थे. इसके बाद वे आईसीसी विश्व कप में टीम इंडिया की जीत में खास योगदान नहीं दे सके, लेकिन आईपीएल में उन्हें कोलकाता नाइट राइडर ने 21 लाख में खरीदा और आईपील में पसंदीदा खिला़ड़ी बने रहे. 

आईपीएल में जारी रहा तूफान
2012 से वे टीम इंडिया के सदस्य भले ही नहीं रहे हो, लेकिन आईपीएल में उनका जादू कायम रहा और कोलकाता को पहला खिताब जिताने में भी उनकी पारी का अहम योगदान रहा. इसके बाद उन्होंने 2014 में 15 गेंदो में फिफ्टी लगाई और इसी तरह के कई शानदार प्रदर्शन किए. लेकिन वे टीम इंडिया में जगह बनाने में कामयाब नहीं हो सके. कोलकाता के बाद युसुफ को हैदराबाद की टीम ने खरीदा. इस साल युसुफ को हैदराबाद ने रिलीज किया है. हाल ही में युसुफ ने सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट में एक शानदार कैच पकड़कर फिर से सबका ध्यान खींचा था.