एवर्टन वीक्स के नाम है फास्टेस्ट 1000 टेस्ट रन का रिकॉर्ड, टॉप 5 में ये भारतीय भी है शामिल

टेस्ट क्रिकेटमें सबसे तेज 1000 रन बनाना आसान नहीं है, सर एवर्टन वीक्स ने ये कारनामा महज 12 पारियों में किया था.

एवर्टन वीक्स के नाम है फास्टेस्ट 1000 टेस्ट रन का रिकॉर्ड, टॉप 5 में ये भारतीय भी है शामिल
एक मैच के दौरान विनोद कांबली और सचिन तेंदुलकर.

नई दिल्ली. क्रिकेट में सबसे तेज गति से किसी पायदान पर पहुंचने का रिकॉर्ड भी अपनेआप में अनूठी बात मानी जाती है. ऐसा ही अनूठा रिकॉर्ड टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 1000 रन बनाने का भी है. क्रिकेट के शिखर की तरफ इस पहली पायदान पर सबसे ज्यादा तेजी से पहुंचने का कारनामा करने का श्रेय गुरुवार को आखिरी सांस लेने वाले वेस्टइंडीज के दिग्गज क्रिकेट एवर्टन वीक्स (Everton Weekes)के नाम पर था. लेकिन यदि इस लिस्ट में टॉप-5 क्रिकेटरों की बात की जाए तो उसमें एक भारतीय का भी नाम शामिल है. आइए देखते हैं किन 5 बल्लेबाजों ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज गति से इस शिखर को छुआ था.

शटक्लिफ ने 12 पारियों में पूरे कर लिए थे 1000 रन
इंग्लैंड के हरबर्ट शटक्लिफ (Herbert Sutcliffe) को अपने जमाने की सबसे पहली रन मशीन कहा जाता था. शटक्लिफ ने महज 9 टेस्ट मैच की 12 पारियों में 1000 टेस्ट रन पूरे कर लिए थे. उन्होंने अपने 54 टेस्ट मैच लंबे करियर का अंत 60.73 के बेहतरीन औसत से 16 शतक के साथ 4555 रन बनाकर किया था, जबकि अपने फर्स्ट क्लास क्रिकेट करियर में शटक्लिफ ने 151 शतक के साथ 50670 रन बनाए थे. शटक्लिफ को भारतीय क्रिकेट में भी अनूठे योगदान के लिए याद रखा जाता है. शटक्लिफ ने भारतीय विजयनगर रियासत की टीम की तरफ से कई मैचों में भाग लिया था और कहा जाता है कि उनके बेहतरीन खेल ने भारतीय क्रिकेटरों के अच्छा खेल दिखाने के लिए प्रेरित किया था. 

 
 
 
 

 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by ICC (@icc) on

वीक्स ने बराबर किया था शटक्लिफ का रिकॉर्ड
शटक्लिफ के रिकॉर्ड को वेस्टइंडीज के दिग्गज एवर्टन वीक्स ने बराबर किया था. वीक्स ने भी 9 टेस्ट की 12 पारियों में ही 1000 टेस्ट रन बनाने का रिकॉर्ड बनाया था. वीक्स को टेस्ट क्रिकेट में लगातार 5 पारियों में शतक लगाने वाले इकलौते बल्लेबाज के तौर पर भी याद रखा जाता है. वीक्स ने यह रिकॉर्ड भारत दौरे पर बाम्बे (अब मुंबई) टेस्ट के दौरान बनाया था. वीक्स मद्रास (अब चेन्नई) टेस्ट में विवादित तरीके से रनआउट हो गए थे वरना लगातार छह शतक का रिकॉर्ड भी बन सकता था. इस दौरे पर वीक्स ने 111.28 के औसत से 779 टेस्ट रन बनाए थे. क्रिकेट की मशहूर 'डब्ल्यू' तिकड़ी में से एक वीक्स ने अपने करियर का अंत 48 टेस्ट मैच में 58.61 के औसत से 15 शतक के साथ 4455 रन बनाकर किया था. 

डॉन ब्रैडमैन रहे इस रिकॉर्ड में पीछे
ऑस्ट्रेलिया ही नहीं विश्व क्रिकेट के सबसे महान बल्लेबाज डॉन ब्रैडमैन (Don Bradman) उन दिग्गजों में से हैं, जो मैदान पर कोई न कोई रिकॉर्ड बनाने के लिए ही उतरते थे. अपने समय में बल्लेबाजी के तकरीबन सारे रिकॉर्ड ब्रैडमैन के ही नाम पर थे, लेकिन इस रिकॉर्ड को बनाने में वे थोड़ा सा पिछड़ गए. ब्रैडमैन ने सबसे तेज 1000 रन बनाने के लिए टेस्ट मैच तो सबसे कम खेले, लेकिन पारियों की संख्या में चूक गए. उन्होंने 7 टेस्ट की 13 पारियों में ये कारनामा किया था. 

नील हार्वे ने दर्ज कराया लिस्ट में नाम
ऑस्ट्रेलिया के ही एक और दिग्गज बल्लेबाज नील हार्वे (Neil Harvey) ने भी अपना नाम सबसे तेज 1000 रन बनाने वाली सूची में दर्ज कराया था. उन्होंने 10 टेस्ट की 14 पारियों में यह रिकॉर्ड बनाया था. हालांकि हार्वे इस रिकॉर्ड को बनाने वाले शीर्ष 5 बल्लेबाजों में से इकलौते हैं, जिन्होंने यह रिकॉर्ड बनाने के लिए 2 साल से ज्यादा का समय लिया था. अपने टेस्ट करियर में 79 मैच खेलने वाले हार्वे ने 21 शतक के साथ 48.41 के औसत से 6,149 रन बनाए थे. उन्हें ऑस्ट्रेलिया के सर्वकालिक महान बल्लेबाजों में गिना जाता है.

भारत के विनोद कांबली ने की थी हार्वे की बराबरी
भारत के खब्बू बल्लेबाज विनोद कांबली (Vinod Kambli) को एक समय सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) से भी ज्यादा प्रतिभाशाली बल्लेबाज के तौर पर गिना गया था. स्कूली क्रिकेट में सचिन के साथ वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाली साझेदारी निभाने वाले कांबली ने 12 टेस्ट की 14 पारियों में 1000 टेस्ट रन पूरे किए थे. इस दौरान कांबली ने लगातार दो टेस्ट में 2 दोहरे शतक लगाने वाला पहला भारतीय बल्लेबाज बनने का कारनामा भी किया था. हालांकि अपने रणजी करियर की पहली गेंद को ही छक्के के तौर पर बाउंड्री के बाहर भेजने वाले कांबली का करियर ज्यादा लंबा नहीं चल पाया और वे 17 टेस्ट मैच में 1,084 रन बनाकर ही टीम से हमेशा के लिए बाहर हो गए.