close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फौजी धोनी ने पाकिस्तान का नाम तक लेने से किया परहेज, क्रिकेट मैच पर दिया ये जवाब

पत्रकारों के सवाल पर फौजी धोनी ने पाकिस्तान का नाम तक अपनी जुबान से नहीं लिया. पत्रकार ने लगातार दो सवाल पाकिस्तान को लेकर पूछे, जिसके जवाब में धोनी ने कहा कि वह यहां किसी देश का नाम नहीं लेना चाहेंगे. 

फौजी धोनी ने पाकिस्तान का नाम तक लेने से किया परहेज, क्रिकेट मैच पर दिया ये जवाब
महेंद्र सिंह धोनी इन दिनों क्रिकेट से विराम लेकर पैराशूट रेजिमेंट की बटालियन में शामिल हुए हैं. तस्वीर साभार- ट्विटर

बेंगलुरू: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) दो महीने की ट्रेनिंग के लिए भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़ गए हैं. पत्रकारों के सवाल पर फौजी धोनी ने पाकिस्तान का नाम तक अपनी जुबान से नहीं लिया. पत्रकार ने लगातार दो सवाल पाकिस्तान को लेकर पूछे, जिसके जवाब में धोनी ने कहा कि वह यहां किसी देश का नाम नहीं लेना चाहेंगे. वह अपने देश और सेना और उनके परिवारों की खातिर बटालियन में शामिल हुए हैं.

अपनी कप्तानी में भारतीय क्रिकेट को बुलंदियों पर पहुंचाने वाले धोनी से जब पूछा गया कि क्या वे चाहते हैं कि पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय मुकाबले खेले जाएं? इसके जवाब में धोनी ने कहा कि रिश्ते सामान्य करने के लिए कोशिश तो करनी होगी, ये शुरुआत खेल से भी हो सकती है. खेल ऐसा माध्यम रहा है जो अंतरराष्ट्रीय समस्याओं को सुलझाने का जरिया बनता रहा है. हालांकि उन्होंने तत्काल कहा कि पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज खेलने का फैसला दोनों देशों की सरकारें और बोर्ड के हाथों में है. यहां आपको बता दें कि धोनी पहले भी पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज खेलने के सवाल पर ऐसी ही बात कह चुके हैं.

यहां आपको बता दें कि धोनी बुधवार को पैराशूट रेजिमेंट की बटालियन में शामिल हुए, जिसका हेडक्वार्टर बेंगलुरू में है. करीबी सूत्र ने बताया कि धोनी लंबे सयम से इस बारे में विचार कर रहे थे.

सूत्र ने कहा, 'जैसे धोनी भारतीय क्रिकेट के महानतम सेवकों में से एक हैं, वैसे ही सेना के लिए उनका प्यार भी जगजाहिर है. वह लंबे समय से अपनी रेजिमेंट के साथ समय बिताने के बारे में सोच रहे थे लेकिन क्रिकेट के कारण वह ऐसा नहीं कर पा रहे थे.' सूत्र ने कहा, 'इससे युवाओं में सेना को लेकर जागरुकता फैलेगी और यही धोनी चाहते हैं.'

उन्होंने बताया, धोनी की ट्रेनिंग कश्मीर में 31 जुलाई से 15 अगस्त तक होगी. उनकी बटालियन विक्टर फोर्स के हिस्से के रूप में कश्मीर में स्थित है. वह पेट्रोलिंग, गार्ड एवं पोस्ट ड्यूटी करेंगे और सैनिकों के साथ ही रहेंगे. सेना मुख्यालय ने इसकी अनुमति दे दी है.'

38 वषीय धोनी पैराशूट रेजिमेंट (106 पैरा टीए बटालियन) की प्रादेशिक सेना इकाई में लेफ्टिनेंट कर्नल की पोस्ट पर मौजूद हैं. उन्हें भारतीय सेना ने 2011 में यह सम्मान दिया था. इसके अलावा, अभिनव बिंद्रा और दीपक राव को भी यह सम्मान दिया गया था.

धोनी 2015 में एक क्वालीफाइड पैराट्रपर बने. उन्होंने आगरा स्थित ट्रेनिंग कैम्प में ट्रेनिंग के रूप में आर्मी के विमान से पांच बार पैराशूट के साथ कूद लगाई. इससे पहले, धोनी ने वेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाले तीन टी-20, तीन वनडे और दो टेस्ट मैच की सीरीज से अपना नाम वापस ले लिया था.