मांजरेकर ने JNU हिंसा के विरोध में उतरे लोगों को कहा-Well done, योगेश्वर ने दिया ये जवाब

JNU परिसर में हुई हिंसा का देशभर में विरोध हो रहा है. खेल जगत ने भी इस पर खुलकर प्रतिक्रिया दी है.

मांजरेकर ने JNU हिंसा के विरोध में उतरे लोगों को कहा-Well done, योगेश्वर ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली: JNU परिसर में रविवार को हुई हिंसा (JNU Violence) का देशभर में विरोध हो रहा है. राजनीति से लेकर खेल जगत ने इस हमले की निंदा की है. पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर (Sanjay manjrekar), गौतम गंभीर और इरफान पठान, बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने हिंसा के विरोध में ट्वीट किए. संजय मांजरेकर ने इस हिंसा के विरोध में उतरे लोगों की भी तारीफ की. हालांकि, उनकी यह प्रतिक्रिया पहलवान योगेश्वर दत्त (Yogeshwar Dutt) को हजम नहीं हुई. उन्होंने संजय मांजरेकर से इस मसले पर सवाल भी किया. 

JNU परिसर में हुई हिंसा (JNU Attack) के विरोध में मुंबई में रातभर प्रदर्शन चला. पूर्व क्रिकेटर और कॉमेंटेटर संजय मांजरेकर प्रदर्शनकारियों के पक्ष में खुलकर उतर आ गए. उन्होंने सोमवार रात रौनक कपूर के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘शाबाश मुंबई.’ इस ट्वीट में प्रदर्शन की चार तस्वीरें भी पोस्ट की गई हैं. 

यह भी पढ़ें: INDvSL: इंदौर टी20 मैच 7 बजे से, भारतीय प्लेइंग XI में होगी 2 दिग्गजों की वापसी

संजय मांजरेकर यहीं नहीं रुके. उन्होंने मंगलवार को एक और ट्वीट किया. इस बार उन्होंने लिखा, ‘भारतीयों ने बरसों से अपने नायकों को भरपूर प्यार दिया है और ऐसा करते वक्त धर्म कभी भी आधार नहीं रहा. इसलिए मुझे यकीन है कि भारत की धर्मनिरपेक्षता को हिला पाना असंभव है.’ 

यह भी पढ़ें: JNU हिंसा से गुस्से में खिलाड़ी; ज्वाला गुट्टा ने पूछा- क्या हम अब भी चुप रहेंगे, गंभीर बोले...

ओलंपिक में मेडल जीत चुके योगेश्वर दत्त जेएनयू मामले में कई ट्वीट कर चुके हैं. उन्होंने मंगलवार को संजय मांजरेकर के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए एक तस्वीर पोस्ट की. मुंबई की इस तस्वीर में एक लड़की ‘फी कश्मीर’ का पोस्टर लिए हुए है. योगेश्वर दत्त ने संजय मांजरेकर को टैग करते हुए लिखा, ‘ये भी इसी मुंबई प्रदर्शन की सचाई है. ऐसे लोगों के बारे में क्या कहना है आप का.’

virat

इससे पहले योगेश्वर दत्त ने इसी मसले पर ट्वीट किया था. उन्होंने लिखा, ‘JNU में हुई हिंसात्मक घटना अत्यंत दुखद है. यह विश्वविद्यालय आतंकवाद का अड्डा बनते जा रहा है! जो कि विश्वविद्यालय की परंपरा और संस्कृति के पूरी तरह से खिलाफ है. सरकार को इस पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए.’ उन्होंने इसी दिन एक वीडियो भी पोस्ट किया था. 

यह भी देखें: 2020 में सचिन, ब्रैडमैन, पोंटिंग को पीछे छोड़ेगा ये खिलाड़ी!