...तो इस वजह से इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने किया नस्लवाद का सामना

नासिर हुसैन भारतीय मूल के हैं, उनका जन्म तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में हुआ था, साल 1999 में वो इंग्लैंड क्रिकेट टीम के कप्तान बनाए गए थे.

...तो इस वजह से इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने किया नस्लवाद का सामना
नासिर हुसैन (फोटो-IANS)

नई दिल्ली: इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन (Nasser Hussain) ने कहा है कि वो खुशकिस्मत थे कि उनका पालन-पोषण मल्टी-कल्चर सोसाइटी में एक मिडिल क्लास परिवार मे हुआ और उन्होंने अपनी क्रिकेट काउंटी एसेक्स (Essex) जैसे मल्टी कल्चर क्लब में खेली.

यह भी पढ़ें- IPL 2020 MI vs DC: रोहित शर्मा बोले, 'ये हमारा अभी तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन'

हुसैन ने कहा, 'मुझे एसेक्स में बहुत कम नस्लवाद का सामना करना पड़ा. मैं भारत में पैदा हुआ और इलफोर्ड में पला-बढ़ा. हुसैन सरनेम होने और नाम नासिर होने से मुझे अज्ञानता के कारण कुछ टिप्पणियां सुनने को मिलीं.'

उन्होंने कहा, "मैं खुशकिस्मत था कि मैं एसेक्स के लिए खेला जहां हमारे मिडिल ऑर्डर में नदीम शाहिद (Nadeem Shahid), सलीम मलिक (Saleem Malik) और मैं थे. इलफोर्ड (Ilford) में मैं जहां पला-बड़ा वहां मल्टी-कल्चर काउंटी थी.

नासिर ने कहा, 'मेरे पिता और उनके क्रिकेट स्कूल में ब्रिटिश वेस्टइंडियन, ब्रिटिश इंडियन और ब्रिटिश पाकिस्तानी लोग थे और जब भारत-पाकिस्तान का मैच होता या इंग्लैंड अगर वेस्टइंडीज से हार जाती तो हम एक दूसरे के साथ खूब हंसी मजाक करते थे.'

गौरतलब है कि नासिर हुसैन ने 30 अक्टूबर 1989 को पाकिस्तान के खिलाफ वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. उन्होंने पहला टेस्ट साल 1990 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था.
(इनपुट-आईएएनएस)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.