मैदान पर ही नहीं, भारत के इन क्रिकेटर्स ने राजनीति की पिच पर भी खूब गाड़े हैं झंडे

भारत में क्रिकेट खिलाड़ियों को काफी शोहरत हासिल होती है, इसी लोकप्रियता का फायदा उन्हें राजनीति में भी मिलता है.

मैदान पर ही नहीं, भारत के इन क्रिकेटर्स ने राजनीति की पिच पर भी खूब गाड़े हैं झंडे
गौतम गंभीर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत में क्रिकेट का खेल बाकी सभी खेलों से ज्यादा लोकप्रिय है. यहां क्रिकेटर्स को उनके फैंस भी सिर-आंखों पर रखते हैं. भारतीय खिलाड़ी कई दशकों से मैदान पर अपना हुनर दिखाते आ रहे हैं, जिनमें से कुछ ने क्रिकेट के मैदान को अलविदा कह राजनीति की पिच पर जमकर सुर्खियां बटोरी हैं. वैसे भी राजनीति में ऐसे लोगों को ही शामिल किया जाता है जिनकी फैन फॉलोइंग काफी तगड़ी होती है, फिर चाहे अभिनेता हो या क्रिकेटर. तो चलिए आज की इस खास स्टोरी में हम आपको भारतीय क्रिकेट के कुछ ऐसे नाम बताने वाले हैं जो राजनीति में भी उतने ही माहिर हैं जितने कि वो अपने खेल में रहे.

गौतम गंभीर 
टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने मैदान पर खूब जलवा दिखाया, जिसके बाद उन्होंने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया. गंभीर ने पूर्वी दिल्ली से आम आदमी पार्टी की आतिशी मर्लेना (Atishi Marlena) को हराकर भारतीय संसद में कदम रखा था.  ये तो सभी जानते हैं कि गंभीर मैदान पर अपनी आक्रमकता के लिए जाने जाते थे और आज उनकी यही आक्रमकता राजनीति में भी दिखाई देती है. अक्सर गंभीर ट्विटर पर विपक्षी नेताओं से बहस करते हुए पाए जाते हैं और उनका ये अंदाज फैंस को खूब भाता है.

मोहम्मद अजहरुद्दीन 
टीम इंडिया के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन (Mohammad Azharuddin) कांग्रेस के सांसद रह चुके हैं. अजहरुद्दीन ने साल 2009 में अपने पॉलिटिकल करियर का आगाज किया था. पहली बार उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर मुरादाबाद सीट से जीत हासिल कर संसद का रूख किया था. इन दिनों अजहर तेलंगाना कांग्रेस वर्किंग कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष हैं.

चेतन चौहान 
टीम इंडिया के पूर्व ओपनर चेतन चौहान (Chetan Chauhan) आज उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार में खेल मंत्री हैं. चेतन चौहान एक जमाने में महान भारतीय बल्लेबाज सुनील गवास्कर के ओपनिंग पार्टनर रह चुके हैं. यहां आपको ये भी बता दें कि चौहान यूपी के स्पोर्ट्स मिनिस्टर बनने से पहले दो बार अमरोहा से बीजेपी के सांसद रह चुके हैं.

कीर्ति आजाद 
टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद (Kirti Azad) कपिल देव के नेतृत्व में साल 1983 का विश्व कप जीतने वाली टीम के सदस्य थे. उन्होंने अपनी गेंदबाजी का जलवा उस विश्व कप में खूब दिखाया. अपना क्रिकेट करियर समाप्त करने के बाद आजाद ने भाजपा की टिकट पर दिल्ली की गोल मार्केट से चुनाव जीता और विधायक बने और उसके बाद साल 2014 में दरभंगा से लोकसभा सांसद बने. साल 2015 में कीर्ति आजाद ने भाजपा का साथ छोड़ कांग्रेस का 'हाथ' थाम लिया पर 2019 के चुनावों में उन्हें हार का सामना करना पड़ा.