आखिर गौतम गंभीर ने क्यों कहा, शिक्षा सपना नहीं, बल्कि सच्चाई होनी चाहिए

इस मौके पर गंभीर ने अपने एक बयान में कहा, "मेरा मानना है कि सभी के लिए शिक्षा एक सपना नहीं, बल्कि सच्चाई होनी चाहिए. यह समारोह इसकी महत्ता को दर्शाता है. मैं क्राई द्वारा आयोजित इस समारोह का समर्थन कर काफी खुश हूं. ऐसे समारोह के आयोजनों से एकसाथ होकर हम बदलाव ला सकते हैं."

आखिर गौतम गंभीर ने क्यों कहा, शिक्षा सपना नहीं, बल्कि सच्चाई होनी चाहिए
उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि सभी के लिए शिक्षा एक सपना नहीं, बल्कि सच्चाई होनी चाहिए.

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी गौतम गंभीर ने रविवार को राजधानी दिल्ली में मंडी हाउस मेट्रो स्टेशन के पास आयोजित हुए 'राइड फॉर राइट' साइक्लोथॉन का समर्थन किया. गंभीर ने इस समारोह का आगाज भी किया. वह इस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे. उनके साथ इस समारोह में जाने-माने कलाकार आदिल हुसैन भी शामिल हुए. 

राजधानी दिल्ली में इस साइक्लोथॉन का आयोजन गैर-सरकारी संगठन 'चाइल्ड लेबर और आप (क्राई)' द्वारा किया गया. क्राई का लक्ष्य बच्चों को बाल-मजदूरी और अज्ञानता से आजाद कराकर उन्हें शिक्षित करना है. 

मंडी हाउस मेट्रो स्टेशन ने इस साइक्लोथॉन को गंभीर ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इसमें हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों ने कुल 15 किलोमीटर का रास्ता तय किया. भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और जीक्यू ने भी इसे अपना समर्थन दिया. 

इस मौके पर गंभीर ने अपने एक बयान में कहा, "मेरा मानना है कि सभी के लिए शिक्षा एक सपना नहीं, बल्कि सच्चाई होनी चाहिए. यह समारोह इसकी महत्ता को दर्शाता है. मैं क्राई द्वारा आयोजित इस समारोह का समर्थन कर काफी खुश हूं. ऐसे समारोह के आयोजनों से एकसाथ होकर हम बदलाव ला सकते हैं."

उल्लेखनीय है कि हाल ही में गंभीर ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद हुए एएसआई अब्दुल रशीद की बेटी जोहरा की शिक्षा की जिम्मेदारी उठाने का फैसला किया. इसके साथ ही, गंभीर ने अपने फाउंडेशन के जरिए इस साल अप्रैल में नक्सली हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 25 जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्च वहन करने का ऐलान किया. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.