धोनी की सजा पर गावस्कर-बेदी आमने-सामने, एक ने रेफरी की तारीफ की, दूसरे ने बताया डरपोक

आईपीएल की टीम चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर अंपायर से भिड़ने पर मैच फीस का 50% जुर्माना लगाया गया है. 

धोनी की सजा पर गावस्कर-बेदी आमने-सामने, एक ने रेफरी की तारीफ की, दूसरे ने बताया डरपोक
एमएस धोनी जब अंपायर का विरोध जताने के लिए मैदान पर पहुंचे तो बेन स्टोक्स भी उनसे बात करने चले आए. (फोटो: PTI)

जयपुर: महेंद्र सिंह धोनी को अंपायर से भिड़ने पर भले ही सजा मिल गई हो, लेकिन इस मसले पर बहस खत्म नहीं हुई है. ज्यादातर पूर्व क्रिकेटर चेन्नई के कप्तान धोनी की हरकत की आलोचना कर रहे हैं. लेकिन सजा को लेकर उनमें मतभेद है. पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी और सुनील गावस्कर तो इस मसले पर आमने-सामने आ गए हैं. बेदी ने कहा कि धोनी को सिर्फ जुर्माना लगाकर छोड़ देना डिफेंसिव फैसला है. वहीं, गावस्कर ने मैच रेफरी की तारीफ की और कहा कि यह अच्छा फैसला है. 

धोनी पर आईपीएल मैच के दौरान अंपायरों से बहस करने के लिए 50% मैच फीस का जुर्माना लगाया गया है. पूर्व भारतीय कप्तान बिशन सिंह बेदी ने इस सजा को कम बताया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘मीडिया ने धोनी के कल रात मैदान के अंदर आने को अंपायरों के खिलाफ बेहद अपरिपक्व विरोध करार दिया है, जिस पर मैं हैरान हूं. मेरे लिए यह अबूझ पहेली है कि खेल पत्रकार गलती करने वाले स्थापित सितारों के खिलाफ ईमानदार अभिव्यक्ति करने से क्यों बचते हैं. यहां तक कि अधिकारियों का भी धोनी के प्रति डरपोक रवैया अपनाकर 50 प्रतिशत जुर्माना लगाना बचकाना है.’ 

यह भी पढ़ें: IPL-12: धोनी के विरोध को पूर्व क्रिकेटरों ने बताया अविश्वसनीय, कहा- भविष्य में पछतावा होगा

यह घटना चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रायल्स के बीच यहां खेले गये आईपीएल मैच के दौरान घटी थी. सुनील गावस्कर ने इस बारे में कहा, ‘मैं उस मैच रेफरी की तारीफ करना चाहूंगा, जिसने धोनी पर जुर्माना लगाया. आईपीएल में इससे पहले कई वाक्ये हो चुके हैं, जब ऐसा किया जा सकता था, लेकिन नहीं किया गया. अश्विन द्वारा मांकडिंग किए जाने के बाद जोस बटलर का व्यवहार आपत्तिजनक था. इसी प्रकार नो बॉल के विवाद के बाद विराट कोहली और रोहित शर्मा ने भी अंपायरों के बारे में काफी कुछ कहा था. लेकिन इनके खिलाफ कोई  कार्रवाई नहीं की गई.’

राजस्थान ने इस मैच में चेन्नई को 152 रन का लक्ष्य दिया था. आखिरी ओवर में चेन्नई को जीत के लिए 18 रन की जरूरत थी. पहली पांच गेंदों पर 14 रन बने और धोनी आउट भी हुए. इस तरह आखिरी गेंद पर चार रन की जरूरत थी. न्यूजीलैंड के मिचेल सैंटनर ने बेन स्टोक्स की आखिरी गेंद पर छक्का जमाकर अपनी टीम को जीत दिला दी.

(इनपुट: भाषा)