IND vs AUS: दो बोल्ड करने के बाद हैट्रिक से चूके शमी, लेकिन तारीफ मिली अंपायर को

India vs Australia: मोहम्मद शमी ने राजकोट में एक बार फिर लगातार दो विकेट लिए. लेकिन वे बहुत नजदीकी से हैट्रिक चूक गए. 

IND vs AUS: दो बोल्ड करने के बाद हैट्रिक से चूके शमी, लेकिन तारीफ मिली अंपायर को
मोहम्मद शमी ने लगातार दो विकेट लेकर ऑस्ट्रेलियाई खेमे में खलबली मचा दी थी. (फोटो: ANI)

नई दिल्ली: राजकोट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ (India vs Australia) टीम इंडिया ने बेहतरीन वापसी की. इस मैच में कोई रोमांचक लम्हे रहे. इनसे से सबसे रोमांचक समय वह रहा जब मोहम्मद शमी ने टीम इंडिया के लिए लगातार दो गेंदों में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को बोल्ड किया और बहुत नजदीक से हैट्रिक भी चूक गए. लेकिन तारीफ अंपयार को मिली.

 बात 44वें ओवर की है. ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 5 विकेट पर 259 रन हो गया था. मेहमान टीम को जीत के लिए 42 गेंदों में 82 रन की दरकार थी. क्रीज पर एश्टन एगर और एश्टन टर्नर क्रीज पर थे. विराट कोहली ने गेंद मोहम्मद शमी के हाथों में दी. यहां पर दबाव ऑस्ट्रेलिया पर ही था, लेकिन नामुमकिन भी नहीं था. 

यह भी पढ़ें: IND vs AUS: जानिए वे 5 बातें, जिनसे टीम इंडिया ने की सीरीज में धमाकेदार वापसी

अपने ओवर की पहली गेंद पर ही मोहम्मद शमी ने शानदार यॉर्कर फेंकी और टर्नर बोल्ड हो गए. टर्नर ने 15 गेंदों में 13 रन बनाए. इसके बाद अगली गेंद पर शमी ने पैट कमिंस को भी इसी अंदाज में यॉर्कर पर बोल्ड कर दिया. और अपने लिए हैट्रिक चांस बना लिया. 

ओवर की तीसरी गेंद अब मिचले स्टार्क को खेलनी थी. यहां पर स्टार्क को भी अंदाजा हो गया था कि शमी यॉर्कर ही फेकेंगे. स्टार्क बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं इसलिए उन्होंने अपनी साइड बदल दी. शमी ने उम्मीद के मुताबिक यॉर्कर ही फेंक लेकिन स्टार्क उस पर बल्ला लगाने से चूक गए और गेंद उनके पैड पर लगी. 

यह भी पढ़ें: IND vs AUS: बेंगलुरू का है खास इतिहास, यहां फिंच-वार्नर ने बनाया था रिकॉर्ड

जोरदार अपील को अंपायर ने खारिज कर दिया और भारतीय खेमे में निराशा छा गई. जब रीप्ले देखा गया तो लगा कि गेंद लेग स्टंप को छूने से चूक रही है. कॉमेंट्री कर रहे वीवीएस लक्ष्मण ऐसे में अंपायर वीरेंद्र शर्मा की तारीफ किए बिना नहीं रह सके. हॉकाई में भी साफ दिखा गेंद स्टंप को नहीं छू पाती. 

जहां मोहम्मद शमी की तारीफ होनी थी.अंपायर वीरेंद्र शर्मा तारीफ ले गए. वीरेंद्र शर्मा ने एक बार फिर दबाव में बेहतरीन और सही फैसला लिया.