IND vs AUS: मुंबई हार में छिपे अहम सबक, विराट को इन बातों पर देना होगा ध्यान

India vs Australia: टीम इंडिया की मुंबई में आसान हार ने विराट और उनकी टीम में कई रणनीतिक बदलावों की जरूरत पर बल दिया है. 

IND vs AUS: मुंबई हार में छिपे अहम सबक, विराट को इन बातों पर देना होगा ध्यान
विराट कोहली के पास सीरीज में वापसी करने की चुनौती के साथ ही मौका भी है. (फोटो: ANI)

नई दिल्ली: टीम इंडिया की मुंबई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ (India vs Australia) बड़ी हार में टीम के लिए कुछ अहम सबक छिपे हैं. बेशक पिछले छह महीनों में यह टीम इंडिया को सबसे कड़ी चुनौती थी, लेकिन टीम की हार विराट कोहली के लिए कई संकेत दे रही है जिस पर अगर ध्यान नहीं दिया गया तो विराट सीरीज भी गंवा सकते हैं. 

1. टॉप ऑर्डर को बैटिंग में सुधार की बहुत जरूरत
विराट ने मैच के बाद हार स्वीकर करते हुए कहा था कि उनके बल्लेबाजों ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों का ज्यादा ही सम्मान किया था. यह सबसे अच्छी बात है कि विराट ने टीम की कमजोर नब्ज पकड़ी. टीम इंडिया के बल्लेबाजों, खास कर सलामी बल्लेबाजों को आक्रमक होने की जरूरत है. रोहित और धवन ने मेहमान टीम के पेसरों को हावी होने दिया जिससे दबाव बढ़ता गया.

यह भी पढ़ें: IND vs AUS: राजकोट में दो मैच खेले हैं टीम इंडिया ने, रोचक आंकड़े हैं यहां के

2. टीम इंडिया के गेंदबाजों को बनानी होगी कारगर रणनीति
बेशक पिच और हालात के मुताबिक 256 एक छोटा स्कोर था, लेकिन टीम इंडिया के गेंदबाजों को छोटा स्कोर बचाने की रणनीति पर गंभीरता से काम करना होगा और मैच को हर हाल में चुनौतीपूर्ण बनाने पर काम करते रहना होगा. फिंच और वार्नर इतनी आसानी से कैसे जीत गए, यह सवाल गेंदबाजी कोच भरत अरुण के लिए सबसे जरूरी है. इस पर काम नहीं हुआ तो 300 से ज्यादा का स्कोर भी टीम इंडिया को बचा नहीं पाएगा. 

3. विराट कोहली को बदलनी होगी रणनीति
विराट कोहली की कप्तानी बेशक अब तक बढ़िया रही, लेकिन वे अपनी रणनीति ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बदलने में नाकाम रहे. केवल खिलाड़ियों के बढ़िया प्रदर्शन पर सब छोड़ देना काफी नहीं होगा. विराट को, जैसा उन्होंने खुद इशारा किया, अब आक्रामक होने की जरूरत है और उनकी कप्तानी पर भी यह बाद लागू होती है. 

यह भी पढ़ें: IND vs AUS: विराट ने बताई मुंबई में भारतीय हार की वजह, अगले मैच पर कही यह बात

4 मिडिल ऑर्डर को भी बदलाव की जरूरत
इस मैच से हर खिलाड़ी के लिए व्यक्तिगत सीखें भी हैं. बल्लेबाजों से लेकर गेंदबाजों तक को अपने प्रदर्शन पर गंभीरता से विचार करना होगा. श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत, रवींद्र जडेजा तक को अपनी बैटिंग हालात के मुताबिक ज्यादा सेंसिबल तरीके से खेलनी होगी. वे बुरा नहीं खेल रहे, लेकिन बेहतर होने की गुजाइंश ज्यादा है.

5. गेंदबाजों को पैदा करना होगा असर
गेंदबाजों को दबाव की रणनीति पर काम करना होगा, एक्यूरेसी बढ़ानी होगी. ओवर के शुरू में एक चौका या छक्का दबाव गेंदबाज पर ला देता है. वार्नर और फिंच ने आक्रामकता से ही भारतीय गेंदबाजों पर दबाव बनाया और 13 ओवर में ही 100 रन ठोक कर मैच में अपनी जीत आसान कर दी. हर गेंदबाज को इस पर काम करने की जरूरत है. 

राजकोट में टीम इंडिया के लिए बड़ी चुनौती है. यहां का रिकॉर्ड टीम के खिलाफ हैं, लेकिन दोनों टीमें यहां पहली बार खेल रही है. विराट के पास बेशक मुश्किल चुनौती है, लेकिन उन्हें मौकों पर ज्यादा ध्यान देने की दरकार है.