close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BCCI की चाहत, ईडन गार्डन्स में हो पहला डे-नाइट टेस्ट मैच, BCB को भेजा प्रस्ताव

Day-Night Test:  बीसीसीआई ने बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड से गुजारिश की है कि भारत-बांग्लादेश के बीच होने वाले कोलकाता टेस्ट दिन-रात टेस्ट मैच हो.

BCCI  की चाहत, ईडन गार्डन्स में हो पहला डे-नाइट टेस्ट मैच, BCB को भेजा प्रस्ताव
भारत-बांग्लादेश के बीच होने वाले कोलकाता टेस्ट को बीसीसीआई डे-नाइट मैच कराना चाहती है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: कुछ समय पहले तक टीम इंडिया डे नाइट टेस्ट मैच (Day-Night Test) कराने के खिलाफ थी, लेकिन टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष बनने के बाद बोर्ड का नजरिया बदल गया है. पहला गांगुली ने टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली से इस मुद्दे पर सहमति हासिल की और अब खबर है कि बोर्ड आगामी भारत-बांग्लादेश (India vs Bangldesh) के बीच होने वाले दो मैचों की टेस्ट सीरीज के दौरान दूसरा मैच दिन-रात कराना चाहता है. 

यह भी पढ़ें: बांग्‍लादेश के खिलाफ सौ फीसदी टी20 रिकॉर्ड है टीम इंडिया का, लेकिन इस बार है चुनौती

बांग्लादेश बोर्ड ने बताया
कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डन्स में भारत का पहला दिन-रात नाइट टेस्ट मैच हो सकता है. हालांकि, बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीसी) को अभी इस पर सहमति जाहिर करना बाकी है. बीसीबी के क्रिकेट ऑपरेशन चेयरमैन अकरम खान ने रविवार को पत्रकारों से कहा, "उन्होंने (बीसीसीआई) ने हमें (एक दिन-रात टेस्ट) प्रस्ताव दिया है और हम इस पर चर्चा करने के बाद उन्हें बता देंगे."

अभी तक नहीं किया फैसला
उन्होंने कहा, "इस संबंध में हमें दो-तीन दिन पहले एक पत्र मिला है और हम इस संबंध में निर्णय लेंगे. लेकिन हमने इस पर (अभी तक) चर्चा नहीं की है. हम उन्हें एक या दो दिन के अंदर अपने फैसले से अवगत करा देंगे." गांगुली ने शुक्रवार को कहा था कि भारतीय कप्तान विराट दिन-रात टेस्ट खेलने के विचार से सहमत हैं और भारत जल्द ही दिन-रात टेस्ट मैच खेल सकता है.

पहले भारत ने किया था इसका विरोध
गौरतलब है की टीम इंडिया ने अभी तक डे नाइट टेस्ट मैच नहीं खेला है. पहला डे-नाइट टेस्ट मैच साल 2015 में ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड में खेला गया था. तब से टीम इंडिया ने इसका विरोध किया था क्योंकि माना जा रहा था कि इसमें उपयोग में होने वाली पिंक गेंद उस स्पिनर्स के परंपरागत एसजी बॉल की तरह मददगार नहीं होती है. 
(इनपुट आईएएनएस)